Home » जम्मू-कश्मीर » Kashmir: Muzaffar Wani refuses compensation of rupees 4 lakh on Khalid's death
 

कश्मीर: बुरहान वानी के बड़े भाई खालिद की मौत पर मुआवजे को पिता ने ठुकराया

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 December 2016, 10:18 IST
(फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के बड़े भाई की मौत पर राज्य सरकार के मुआवजे को उसके परिवार ने ठुकरा दिया है. इसी साल जुलाई में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में बुरहान वानी की मौत हो गई थी.  

जम्मू-कश्मीर की महबूबा मुफ्ती सरकार ने बुरहान के भाई खालिद की मौत पर चार लाख रुपये के मुआवजे का एलान किया है. पिछले साल अप्रैल में खालिद की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी. 

बुरहान के पिता मुजफ्फर वानी ने राज्य सरकार के मुआवजे को लेने से साफ इनकार कर दिया है. मुजफ्फर वानी का आरोप है कि सुरक्षाबलों ने साजिश के तहत उनके बड़े बेटे खालिद की हत्या की है. 

मुजफ्फर वानी स्कूल में टीचर हैं.  पुलवामा जिले के उपायुक्त मुनीर उल इस्लाम ने सोमवार को एक अधिसूचना जारी करते हुए आतंकी घटनाओं में मारे गए या जख्मी लोगों के परिवार वालों को आर्थिक मदद का आदेश दिया था.

बताया जा रहा है कि दक्षिण कश्मीर में 17 परिवारों को मुआवजे का आदेश दिया गया है. पुलवामा के आयुक्त की जारी अधिसूचना में खालिद का नाम नवें नंबर पर है. उसके परिवार को राज्य सरकार ने चार लाख रुपये के मुआवजा के साथ सरकारी नौकरी की पेशकश की है.

कैसे हुई खालिद की मौत?

इस साल मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल कमांडर बुरहान वानी का बड़ा भाई खालिद इंदिरा गांधी नेशनल ओपेन यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र की पढ़ाई कर रहा था. 

25 साल के खालिद की पिछले साल 14 अप्रैल को मौत हो गई थी. बताया जाता है कि खालिद त्राल के जंगल में अपने भाई बुरहान वानी से मिलने जा रहा था. 

जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक खालिद आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का सदस्य था. जब वह बुरहान से मिलने के लिए जा रहा था, इस दौरान उसके साथ तीन दोस्त भी मौजूद थे.

पुलिस के मुताबिक चेतावनी के बावजूद जब खालिद और उसके साथी नहीं रुके, तो फायरिंग में खालिद और उसका एक साथी मारा गया. वहीं खालिद के परिजन इस दावे को नकारते हैं.

परिवार वालों का आरोप है कि सुरक्षाबलों ने हिरासत के दौरान खालिद की हत्या की क्योंकि उसके शरीर पर चोट के निशान थे. जम्मू-कश्मीर में आठ जुलाई 2016 को बुरहान वानी की मुठभेड़ में मौत के बाद सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच कई महीने तक झड़प चलती रही. इस दौरान 90 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई.

First published: 14 December 2016, 10:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी