Home » जम्मू-कश्मीर » CM Mehbooba said 'If you want to stop this bloodshed, then talks with Pakistan is important
 

सीएम महबूबा बोली- 'इस रक्तपात को रोकना चाहते हैं तो पाकिस्तान से बातचीत जरूरी है'

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2018, 17:40 IST

सेना ने सोमवार को बताया कि उसके सुंजवान शिविर में आतंकियों की खोज अभी जारी है. इस शिविर पर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने हमला किया था जिसमें पांच सैनिकों सहित कुछ छह लोग मारे गये थे. शिविर के भीतर सेना की जवाबी कार्रवाई में हमले में शामिल जैश-ए-मोहम्मद के तीन संदिग्ध आतंकवादी मारे गये और उनके कब्जे से भारी मात्रा में हथियार बरामद हुआ है.

जम्मू में सेना के जन संपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल देवेन्द्र आनंद ने बताया कि ‘‘(शिविर के भीतर) खोज अभियान अभी भी जारी है.’’ दस फरवरी की सुबह भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के एक समूह ने जम्मू-कश्मीर लाइट इंफेंटरी की 36वीं ब्रिगेड की शिविर पर हमला कर दिया था। इसमें दो जेसीओ सहित सेना के पांच कर्मियों की मौत हो गयी.

 

उन्होंने बताया कि भारी हथियारों से लैस तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। जहां दो को कल मार गिराया गया, तीसरे आतंकी का शव आज पाया गया. लेफ्टिनेंट कर्नल आनंद ने बताया कि उनके पास से एके-56 राइफल, अंडर बैरेल ग्रेनेड लांचर, गोला-बारुद और ग्रेनेड जब्त किये गए.

 

मृतक सैन्यकर्मियों की पहचान सूबेदार मदन लाल चौधरी, सूबेदार मोहम्मद अशरफ मीर, हवलदार हबीबुल्ला कुरैशी, नायक मंजूर अहमद और लांस नायक मोहम्मद इकबाल के रूप में हुई है.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने जम्मू कश्मीर में लगातार हो रहे आतंकी हमलों के बाद लोगों की सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला है. आज़ाद ने कहा कि अगर सरकार यहां के लोगों को सुरक्षा प्रदान नहीं कर सकती तो इसका मतलब है कि सरकार की नीति में ही कुछ खामी है.   

इस बीच जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने कहा है कि 'इस रक्तपात को रोकना चाहते हैं तो पाकिस्तान से बातचीत जरूरी है. मुझे पता है कि आज मुझे टीवी न्यूज चैनलों के ऐंकरों द्वारा ऐंटी नैशनल का तमगा दे दिया जाएगा लेकिन मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता. जम्मू-कश्मीर के लोग पीड़ित हैं. हमें बात करनी होगी क्योंकि युद्ध उपाय नहीं है.'

First published: 12 February 2018, 17:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी