Home » जम्मू-कश्मीर » Defence Minister Manohar Parrikar says that due to note ban stone pelting in Kashmir halted
 

पर्रिकर बोले- नोटबंदी से कश्मीर में सुरक्षाबलों पर बंद हुआ पथराव

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 November 2016, 11:48 IST
(फाइल फोटो)

देशभर में पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट बंद होने के बाद से एटीएम और बैंकों में पिछले सात दिन से लंबी कतार देखी जा रही है. हालांकि इसके उलट कश्मीर घाटी के बैंकों और एटीएम में कम लोग नजर आ रहे हैं.

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि पुराने नोटों के बंद होने से सबसे बड़ा फायदा यह हुआ है कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों पर होने वाला पथराव खत्म हो गया है.

रक्षा मंत्री ने अपने ट्वीट में भी लिखा, "विमुद्रीकरण से आतंकियों की फंडिंग की जड़ को चोट पहुंची है. पीएम मोदी जी ने भी अपने भाषण में आतंक से लड़ने के खिलाफ इसका जिक्र किया."

'आतंकवाद के प्रायोजकों को चोट'

रक्षा मंत्री ने पीएम मोदी के कदम को साहसिक बताते हुए पुराने नोट पर प्रतिबंध का स्वागत किया है. साथ ही रक्षा मंत्री ने कहा कि इससे मादक द्रव्यों पर रोक लगाने में भी मदद मिलेगी.

रक्षा मंत्री ने एक कार्यक्रम में कहा, "प्रधानमंत्री के साहसिक कदम के बाद से सुरक्षाबलों पर पथराव नहीं हो रहा है. मैं इसके लिए पीएम को बधार्इ देता हूं. पहले दरें तय थीं. सुरक्षाबलों पर पथराव के लिए पांच साै रुपये आैर अन्य किसी काम के लिए हजार रुपये. पीएम ने आतंकवाद के वित्तपोषण को खत्म कर दिया है. नोटबंद होने से आतंकवाद के प्रायोजक प्रभावित होंगे."

कश्मीर में बोर्ड परीक्षा और ठंड वजह!

पर्रिकर भले ही कह रहे हों कि नोटबंदी के फैसले से ऐसा हुआ है, लेकिन कश्मीर की गतिविधियों को करीब से जानने वाले इससे इनकार कर रहे हैं.

दरअसल कश्मीर घाटी में दसवीं बोर्ड की परीक्षा मंगलवार से शुरू हुई है, ऐसे में पथराव की घटनाओं में कमी को एक वजह माना जा रहा है. पिछले एक महीने से पत्थरबाजी की घटनाएं बंद हैं. घाटी में अलगाववादियों का लंबे अरसे से चल रहा बंद भी एक वजह मुमकिन है.

आठ जुलाई को हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के सुरक्षाबलों के हाथों एनकाउंटर में मारे जाने के बाद कश्मीर घाटी में तीन महीने से पथराव और हिंसा की घटनाएं सामने आई थीं. तकरीबन 90 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

जानकार यह भी बताते हैं कि घाटी में ठंड की शुरुआत के साथ ही पथराव की घटनाएं अपने-आप बंद हो जाती हैं. लिहाजा पथराव क्या पूरी तरीके से बंद हो जाएगा, इसके लिए जनवरी तक इंतजार करना होगा.  

पीएम मोदी ने 8 नवंबर की शाम को 500 आैर 1000 रुपये के नोटों को मध्यरात्रि से अमान्य घोषित किया था. पिछले छह दिन से एटीएम और बैंकों के बाहर नोट बदलने और पैसे निकालने के लिए लोगों की लंबी कतार देखी जा रही है.

First published: 15 November 2016, 11:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी