Home » जम्मू-कश्मीर » Farooq Abdullah threatens boycott 2019 LS polls over Articles 35A, 370 unless centre clears stand
 

फारूक अब्दुल्ला की लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की धमकी, केंद्र सरकार से 35A पर स्टैंड साफ करने को कहा

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 September 2018, 16:05 IST

नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारुक अब्दुल्ला ने पंचायत चुनाव के बाद लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की धमकी दी है. जम्मू- कश्मीर में लागू आर्टिकल 35A और 370 को लेकर ये धमकी दी है. शनिवार को फारुक अब्दुल्ला ने श्रीनगर में आयोजित एक कार्यक्रम में ये बड़ा बयान दिया.

फारूक अब्दुल्ला ने धमकी देते हुए कहा," हमारी पार्टी ना सिर्फ पंचायत चुनाव बल्कि लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव का भी बहिष्कार करेंगे. अगर केंद्र सरकार ने सूबे में लागू आर्टिकल 35A और 370 पर अपना स्टेंड स्पष्ट नहीं किया."

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने अनुच्छेद 35A पर सुनवाई 19 जनवरी तक टाली, केंद्र ने दिया था पंचायत चुनाव का हवाला

साल 1954 में भारतीय संविधान में शामिल आर्टिकल, जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को विशेषाधिकार प्रदान करता है. आर्टिकल 35A भारतीय नागरिकों को जो जम्मू कश्मीर के स्थायी निवासी नहीं है, उन्हें राज्य में सरकारी नौकरी, किसी भी व्यापार या बिजनेस के लिए जमीन खरीदने, और सेटल होने से रोकते हैं.

ये भी पढ़ें- फारूक अब्दुल्ला की 35 ए पर धमकी, केंद्र ने रुख स्पष्ट नहीं किया तो पंचायत चुनाव का करेंगे बहिष्कार

फारुक अब्दुल्ला ने कांग्रेस के सांसद और पंजाब में मंत्री नवजोत सिंह सिद्ध की पाकिस्तान यात्रा का बचाव किया. सिद्धू की यात्रा का विरोध करने वालों पर हमला बोलते हुए कहा, " जिस तरह से मीडिया सिद्धू पर हमला बोल रही है, कुछ तत्व ऐसे हैं जो भारत और पाकिस्तान के रिश्ते नहीं सुधरने देना चाहते हैं. ऐसे में भारत और पाकिस्तान की तरफ से रिश्तों में सुधार के सारे प्रयास विफल हो रहे हैं. इससे दोनों देशों में शांति की राह में बाधा पहुंच रही है. लेकिन जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए भारत-पाकिस्तान की दोस्ती ज्यादा महत्वपूर्ण है."

ये भी पढ़ें- जम्मू कश्मीर से 35A हटाने पर बोले फारुक अब्दुल्ला, कब्र में दफन होने तक करता रहूंगा विरोध

गौरतलब है कि 31अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर में लागू अनुच्छेद 35 ए पर सुनवाई 19 जनवरी तक टाल दी थी. केंद्र सरकार ने इस मामले में अपना पक्ष रखते हुए इसे पंचायत चुनाव खत्म होने तक टालने की मांग की थी. सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार का कहना था कि जम्मू कश्मीर में सितंबर में पंचायत चुनाव होने है. इन परिस्थतियों में शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव कराने के लिए इस मामले की सुनवाई अभी टाल दी जाए. 

First published: 8 September 2018, 15:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी