Home » जम्मू-कश्मीर » Jammu Kashmir: 13 terrorist killed by protection force and army, revenge for Lieutenant
 

जम्मू-कश्मीर: सेना ने लिया लेफ्टिनेंट की शहादत का बदला, हत्यारे समेत मार गिराए 13 आतंकी

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 10:00 IST

जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों ने 13 आतंकवादियों को मार गिराया. इस मुठभेड़ में 3 जवान और 4 नागरिकों को जान गंवानी पड़ी. मारे गए आतंकवादियों में लेफ्टिनेंट उमर फयाज की नृशंस हत्या में शामिल आतंकवादी भी शामिल हैं. कश्मीर में आतंकवादी समूहों को एक बड़ा झटका देने वाले इन अभियानों को दोनों जिलो में शनिवार रात शुरू किया गया था और रविवार शाम तक जारी रहा.

अधिकारियों ने बताया कि अनंतनाग जिले के दायलगाम में एक आतंकवादी मारा गया और एक अन्य को गिरफ्तार किया गया, जबकि द्रगाद में सात आतंकवादी मारे गए. शोपियां जिले के काचदुरू क्षेत्र में पांच आतंकवादियों को मार गिराया गया. 13 आतंकवादियों में से अब तक 11 की पहचान कर ली गई है और ये सभी स्थानीय हैं. मुठभेड़ के दौरान हिंसक भीड़ को काबू करने के लिए फायरिंग करनी पड़ी. हिंसक झड़पों में 50 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं, जिनमें से छह को गोली लगी है.

मारे गए आतंकी में तीन आतंकी लेफ्टिनेंट उमर फैयाज के हत्यारे थे

चिनार कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एके बट ने कहा कि द्रगड़ में मारे गए सात में से तीन आतंकी लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या में शामिल थे. ये हर बार बच जाते थे. अब जाकर हमने शहीद फैयाज का बदला ले लिया. 22 साल के लेफ्टिनेंट उमर फैयाज गत वर्ष मई में घर आए थे. उनका घर के बाहर से अपहरण कर लिया गया था. बाद में उनका गोलियों से छलनी शव हरमैन इलाके में मिला था.

 

कश्मीर में इंटरनेट सेवा ठप्प

पुलिस ने बताया कि ऐहतियाती कदम के तौर पर कश्मीर के कई हिस्सों में इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है. पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर क्षेत्र) एस पी पाणि ने बताया कि जम्मू कश्मीर पुलिस ने सेना और सीआरपीएफ के साथ मिलकर बहुत जबर्दस्त काम किया है. मारे गए आतंकवादियों में इश्फाक ठोकर, एहतेमद हुसैन और अकीब इकवाल शामिल है जो कि शोपियां क्षेत्र में कई आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त थे.

शीर्ष पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘मैं दायलगाम मुठभेड़ का खास जिक्र करना चाहूंगा जहां हमारे एसएसपी ने एक विशेष प्रयास किया, जैसा दुनिया में कहीं भी सुनने को नहीं मिलता है.’’ डीजीपी ने कहा, ‘‘उन्होंने (एसएसपी ने) एक आतंकवादी के परिजन को फोन किया. उन्होंने उससे 30 मिनट तक बात की, ताकि उसे आत्मसमर्पण करने के लिए राजी किया जा सके.’’ उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्यवश, उसने अपने परिजन की सलाह नहीं मानी.

 

First published: 2 April 2018, 9:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी