Home » जम्मू-कश्मीर » Jammu Kashmir: Pakistan may sponsor violence in the valley says former raw chief
 

घाटी में हिंसा प्रायोजित करवा सकता है पाकिस्तान- पूर्व रॉ प्रमुख

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 June 2018, 11:08 IST

भाजपा का पीडीपी से समर्थन वापस लिए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में आठवीं बार राज्यपाल शासन लगा दिया गया है. ऐसे में भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व प्रमुख विक्रम सूद का मानना है कि इस घटनाक्रम के बाद घाटी में एक बार फिर हिंसा का दौर लौट सकता है. साथ ही उनका यह भी कहना है कि कश्मीर में इस राजनीतिक बदलाव के बाद पाकिस्तान घाटी में हिंसा प्रायोजित करवा सकता है. हालांकि उनका यह भी मानना है कि सुरक्षा एजेंसियां जल्दी ही उस पर काबू पा लेंगी.

आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीजेपी का पीडीपी से समर्थन वापस लेने के फैसले पर रॉ के पूर्व प्रमुख सूद का मानना है कि यह फैसला राजनीतिक है लेकिन घाटी की बिगड़ती स्थिति को देखकर उसमें कुछ ना कुछ एक्शन लेना जरूरी था. बता दें कि बीते दिन बीजेपी ने राज्य की अपने सहयोगी पार्टी से समर्थन वापस ले लिया. जिसके बाद जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा. जिसके बाद अब राज्य में राज्यपाल शासन लग गया है. वहीं मौजूदा गवर्नर एनएन वोहरा के कार्यकाल में यह चौथी बार है जब राज्‍य में राज्‍यपाल शासन लगाया गया है.

उन्होंने राज्य में राज्यपाल शासन लगने पर कहा कि बेहतर तो यही है कि राज्य सरकार ही स्थिति पर नियंत्रण करे, क्योंकि यही लोकतंत्र का ढांचा है लेकिन ऐसा नहीं होने पर तो केंद्र को हस्तक्षेप करना पड़ेगा जैसा अभी हुआ है, क्योंकि स्थिति काबू में नहीं आ रही थी.

इसके अलावा पूर्व रॉ प्रमुख ने कहा कि कश्मीर में जो कुछ भी हुआ उसके लिए किसी एक को दोष देना सही नहीं होगा. उन्होंने कहा कि आतंकियों के साथ नरमी से बर्ताव नहीं होना चाहिए. पूर्व रॉ प्रमुख का कहना है कि, 'वो फैसला गलत था, आपको उन पर पहले काबू पाना होगा और जब आप काबू कर लेंगे या काबू करने के योग्य हो जाएंगे या उसके करीब पहुंच रहे होंगे तब आप बात करें. पहले बात करेंगे तो उनकी मांगे और बढ़ती जाएंगी.'

ये भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर में लागू हुआ राज्यपाल शासन, राष्ट्रपति कोविंद ने किया ऐलान

इसके अलाव कश्मीर के मुद्दे पर बातचीत से सुलझाने को लेकर पूर्व रॉ प्रमुख कहना है कि बातचीत से पहले हालात पर नियंत्रण जरूरी है और अगर आपको हिंसा पर नियंत्रण करना है तो आप कैसे करेंगे? हथियार छोड़ कर बैठने से शांति नहीं आएगी.

First published: 21 June 2018, 11:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी