Home » जम्मू-कश्मीर » jammu kashmir- SC to continue hearing on JKHCBA's plea against use of pellet guns
 

कश्मीर में पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक के मामले में SC में सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 May 2017, 11:13 IST

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में कश्मीर में पत्थरबाजों से निपटने के लिए सुरक्षा बलों द्वारा पैलेट गन के इस्तेमाल पर आज महत्वपूर्ण सुनवाई हो रही है. जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने कश्मीर में पैलेट गन पर रोक को लेकर कोर्ट में याचिका दायर की है. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि कश्मीर में शांति बनाने के लिए सरकार और लोगों में बातचीत होनी चाहिए. लेकिन इसके लिए पहले सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी बंद होनी चाहिए. 

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में कहा था कि वो केंद्र सरकार को दो हफ्ते के लिए पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के आदेश देंगे. अगर वहां के लोग हमें हिंसक प्रदर्शन बंद कर सरकार के साथ बातचीत करने का आश्वासन देंगे.  

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन से कहा था कि वो कश्मीर के लोगों और प्रतिनिधियों से बातचीत कर कंक्रीट सुझाव लेकर सुप्रीम कोर्ट आएं. सुप्रीम कोर्ट ने एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी से कहा कि वह याचिकाकर्ताओं और हिरासत में मौजूद नेताओं को भी बातचीत में शामिल करे. अगर कानून इसकी इजाजत देता है तो. 

केंद्र सरकार की ओर से इसका विरोध करते हुए एजी मुकुल रोहतगी ने कहा था कि कश्मीर मुद्दे पर बातचीत होगी तो सिर्फ राजनीतिक स्तर पर. याचिकाकर्ता चाहते हैं कि अलगावादियों को बातचीत में शामिल किया जाए, लेकिन कानून इसकी इजाजत नहीं देता. वहीं याचिकाकर्ता का कोर्ट में कहना था कि कश्मीर से अगर सुरक्षा बलों को हटाया जाए और पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक लगाएं तो शांति के लिए बातचीत हो सकती है. पहले सीज फायर होना चाहिए. इस मामले में पाकिस्तान से बातचीत होनी चाहिए.

दरअसल जम्मू कश्मीर में प्रदर्शनकारियों पर पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक लगाने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने भी सवाल उठाया कि प्रदर्शनकारियों में 9,11, 13, 15 और 17 साल के बच्चे और नौजवान क्यों शामिल हैं?  

First published: 9 May 2017, 11:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी