Home » जम्मू-कश्मीर » JKLF Chairman Yasin Malik arrested in Srinagar, separatists call for protest strike over civilian killings in Kulgam district
 

अलगाववादी नेता यासीन मलिक की फिर हुई गिरफ्तारी, कुलगाम में नागरिकों की मौत के बाद बंद का किया था आह्वान

न्यूज एजेंसी | Updated on: 11 April 2018, 18:59 IST

जम्मू एवं कश्मीर के कुलगाम जिले में नागरिकों की मौतों के विरोध में बुधवार को जुलूस निकाल रहे जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के चेयरमैन मुहम्मद यासीन मलिक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. उधर, अलगाववादी संगठनों के नेताओं सैयद अली गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और यासीन मलिक ने गुरुवार और शुक्रवार को घाटी में बंद का आह्वान किया है.

जेकेएलएफ के कार्यालय पर आनन-फानन में बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में गिलानी और मीरवाइज उमर ने संवाददाताओं को फोन से संबोधित किया. उन्होंने और मलिक ने भारत सरकार पर आरोप लगाया कि वह कश्मीर के लोगों का सफाया करना चाहती है.

मीरवाइज ने कहा कि 2019 के आम चुनावों में कश्मीर को मुख्य मुद्दा बनाने के लिए मोदी सरकार किसी भी हद तक जा सकती है. मलिक ने राज्य सरकार, विशेषकर पीडीपी नेतृत्व पर उस भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठबंधन करने के लिए हमला बोला जो 'खुले तौर पर दुष्कर्मियों और कातिलों का समर्थन कर रही है.'

गिलानी ने कहा कि 'कश्मीर के लोगों के मन से स्वतंत्रता की इच्छा और संकल्प' को खत्म करने की नई दिल्ली की कोशिशें कभी सफल नहीं होंगी. बुधवार को कुलगाम में नागरिकों की मौतें होने के विरोध में अलगाववादियों ने गुरुवार और शुक्रवार को घाटी में बंद का आह्वान किया है.

संवाददाता सम्मेलन के बाद, मलिक अपने कुछ समर्थकों के साथ प्रदर्शन करते हुए शहर के बीच स्थित लाल चौक की तरफ जाने लगे. पुलिस ने जुलूस रोक कर मलिक को हिरासत में ले लिया. मलिक की गिरफ्तारी की खबर शहर में फैलते ही मैसूमा क्षेत्र के सैकड़ों युवक अपने घरों से निकलकर सुरक्षा बलों से भिड़ गए. बुधवार को नागरिकों की मौतें होने के विरोध में पुलवामा, अनंतनाग, सोपोर और बांदीपोरा में भी झड़पों की खबरें आई हैं.

First published: 11 April 2018, 18:59 IST
 
अगली कहानी