Home » जम्मू-कश्मीर » kashmir- Army officer major Gogoi, who tied youth to jeep gets award by indian army.
 

कश्मीरी युवक को जीप से बांधने वाले मेजर को सेना ने दिया सम्मान

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 May 2017, 10:07 IST

जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजों को सबक सिखाने के लिए युवक को जीप के बोनट में बांधकर घुमाने वाले मेजर को सेना ने सम्मानित किया है. इंडियन आर्मी के चीफ बिपिन रावत ने मेजर लीतुल गोगोई को ‘कमेंडेशन कार्ड' से नवाजा है. गोगोई को आतंकवाद विरोधी अपराध में निरंतर कमी लाने के लिए ये पुरस्कार दिया गया है.

15 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर पुलिस की ओर से 53 राष्ट्रीय राइफल्‍स के मेजर के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी. सेना ने दो दिन बाद कोर्ट ऑफ इन्‍क्‍वायरी बैठाई थी. मेजर गोगोई के खिलाफ जांच अंतिम चरण में है और इसे सेना की तरफ से मेजर को समर्थन के तौर पर देखा जा रहा है. मेजर एल गोगोई अप्रैल में फ़ारूक़ अहमद डार नाम के व्यक्ति को मानव ढाल की तरह जीप पर बांधकर घुमाने के बाद चर्चा में आए थे.

क्या है मामला

9 अप्रैल को श्रीनगर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के बाद डार को जीप में बांधने का वीडियो वायरल हो गया था. सेना पर कश्‍मीरी युवकों की पत्थरबाजी से बचने की कोशिश में सुरक्षाबलों ने एक कश्मीरी युवक फारूक अहमद को जीप के बोनट से बांध दिया था. सेना की जीप में बंधा युवक कश्मीर के बड़गाम के छील का रहने वाला था.

पत्थरबाजी से किया था इनकार

युवक का कहना था कि वो पत्थरबाज नहीं है और उसने जीवन में कभी भी पत्थरबाजी नहीं की है. वो तो एक  शॉल बुनकर है. इसके अलावा वो कभी-कभी लकड़ी से सामान बनाने का काम करता है. फारूक ने बताया, "उन लोगों ने  जीप के बोनट के आगे मुझे बांध दिया. सेना के जवानों ने मुझे जीप में बांधकर 25 किलोमीटर के इलाके में घुमाया और वो लोगों से कह रहे थे कि अब पत्थर मारो इस पत्थरबाजी करने वाले को. मुझे नौ गांवों में इस हालत में घुमाया गया. इसके बाद वो जवान मुझे स्थानीय सीआरपीएफ कैंप में ले गए और मुझे काफी देर तक कैंप में बिठाया गया.

उमर अब्दुल्ला ने किया था ट्वीट

इस वीडियो को जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्‍दुल्ला ने भी ट्वीट किया था और इस वीडियो की  जांच की मांग की थी. हालांकि कुछ लोगों ने सेना की इस कार्रवाई का समर्थन भी किया था. 

नीचे देखिए वीडियो

First published: 23 May 2017, 10:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी