Home » जम्मू-कश्मीर » Pellet guns case-Supreme Court today asked the petitioner to talk to the various stakeholders.
 

'कश्मीर में शांति बनाने के लिए सरकार और लोगों में हो बातचीत'

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2017, 16:26 IST

कोर्ट ने  सरकार की तरफ से पेश AG मुकुल रोहतगी को कहा है कि वह याचिकाकर्ता को लोगों और हिरासत में मौजूद नेताओं से मिलवाने के प्रयास करें अगर कानून ऐसा करने की इजाजत देता हो. कोर्ट 9 मई को इस मामले में सुनवाई करेगा. 

केंद्र सरकार ने पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक का विरोध किया . AG मुकुल रोहतगी ने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर बातचीत होगी तो राजनीतिक स्तर पर कोर्ट इस मामले में डायलॉग यानी बातचीत के लिए नहीं कह सकता. याचिकाकर्ता चाहते हैं कि अलगावादियों को बातचीत में शामिल किया जाए, लेकिन कानून इसकी इजाजत नहीं देता. 

पिछली सुनवाई में कोर्ट ने कहा था कि कश्मीर के हालात चिंताजनक हैं. हम एक गंभीर मुद्दे पर सुनवाई कर रहे हैं. वहीं केंद्र ने कहा कि पैलेट गन का इस्तेमाल आखिरी विकल्प के तौर पर किया जा रहा है. किसी को मारना सुरक्षा बलों का उद्देश्य नहीं है. 

First published: 28 April 2017, 16:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी