Home » जम्मू-कश्मीर » President Ram Nath Kovind says on Kathua Gangrape and Murder case What kind of society are we developing
 

कठुआ गैंगरेप केस: राष्ट्रपति कोविंद बोले- कैसा समाज बना रहे हैं हम?

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 April 2018, 15:49 IST

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जम्मू-कश्मीर में रियासी के श्री माता वैष्‍णो देवी विश्‍वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की. इस दौरान राष्ट्रपति ने कठुआ गैंगरेप और मर्डर केस पर दुख जताया. राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि देश के किसी--किसी कोने में कहीं--कहीं हमारे बच्चे जघन्य अपराधों का शिकार हो रहे हैं. हाल ही में एक मासूम बच्ची ऐसी बर्बरता और निर्मम हत्या का शिकार हुई है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है.

उन्होंने आगे कहा, "आजादी के 70 साल बाद देश के किसी भी हिस्से में ऐसी शर्मनाक घटना होना बड़े दुख की बात है. हमें सोचना होगा कि हम किस प्रकार के समाज को विकसित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करना हमारी ज़िम्मेदारी है कि ऐसी किसी भी महिला या बच्ची के साथ ऐसा न हो." राष्ट्रपति ने बच्चों की मुस्कान को दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज बताया. उन्होंने कहा कि समाज की सबसे बड़ी सफलता हमारे बच्चों का सुरक्षित होना.

कॉमनवेल्थगेम्स की महिला खिलाड़ियों की जमकर की तारीफ

राष्ट्रपति ने इस मौके पर देश की बेटियों की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि भारत की बेटियों ने कॉमनवेल्थगेम्स-2018 में देश के लिए ख्याति अर्जित की है, दिल्ली से मणिका बत्रा, मणिपुर से मैरी कॉम, मीराबाई छानू और संगीता छानू, हरियाणा के मनु भोकर और विनीश फोगट, साइना नेहवाल तेलंगाना से और पंजाब की हीना सिद्धू ने पूरे विश्व में भारत का नाम रोशन किया है.

बेटियां लें देश के विकास में भाग-राष्ट्रपति

इस दौरान राष्ट्रपति कोविंद ने देश में महिलाओं की भूमिका पर कहा कि क्या हम ऐसे समाज का निर्माण कर रहे हैं जहां हमारी मां-बहनें और बेटियां संविधान में निहित न्याय, समानता, स्वतन्त्रता और बंधुता को सही अर्थों में अनुभव कर सकें?

उन्होंने कहा कि हम सभी की ये जिम्मेदारी है कि देश के किसी भी भाग में, किसी भी बेटी या बहन के साथ ऐसा न हो. उन्होने उम्मीद जताई कि देश का हर नागरिक बेटियों के प्रति अपनी इस सामाजिक जिम्मेदारी को जरूर निभाएगा.

ये भी पढ़ें- मनमोहन सिंह बोले- मोदी जी जो सलाह मुझे देते थे, खुद पर आजमानी चाहिए

First published: 18 April 2018, 15:49 IST
 
अगली कहानी