Home » जम्मू-कश्मीर » Separatist leader Masarat Alam Bhat released from Kathua jail after J&K High court order
 

रिहा होते ही अलगाववादी नेता मसर्रत आलम फिर गिरफ़्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2016, 11:45 IST
(एएनआई)

जम्मू एवं कश्मीर उच्च न्यायालय के आदेश पर कठुआ जिला कारागार से रिहा किए गए हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के कट्टरपंथी नेता मसर्रत आलम भट्ट को गुरुवार को रिहाई के थोड़ी ही देर बाद फिर से गिरफ्तार कर लिया गया. 

अप्रैल, 2015 से पब्लिक सिक्‍योरिटी एक्‍ट (पीएसए) के तहत जेल में बंद मसर्रत की रिहाई का आदेश मंगलवार को जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट ने दिया था.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मसर्रत को उस मामले में रिहा किया गया था, जिसे उच्च न्यायालय ने खारिज कर दिया था. लेकिन उसे तुरंत एक अन्य मामले में फिर से गिरफ्तार कर लिया गया. न्यामूर्ति मुजफ्फर हुसैन अत्तार ने मसर्रत की हिरासत को कई बुनियाद पर गैरकानूनी करार दिया था.

मसर्रत के खिलाफ अप्रैल, 2015 से पब्लिक सिक्‍योरिटी एक्‍ट (पीएसए) के तहत कई बार मामला दर्ज हो चुका है और इस क्रम में नया आदेश बारामूला के जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी किया गया था.

मसर्रत आलम को हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के चेयरमैन सैयद अली शाह गिलानी का करीबी माना जाता है. वर्ष 2010 में घाटी में विरोध प्रदर्शनों के बाद उसे गिरफ्तार किया गया था. उस समय घाटी में 120 लोगों की मौत हो गई थी.

पीएसए के तहत किसी व्यक्ति को बिना किसी न्यायिक कार्यवाही के अधिकतम दो साल के लिए न्यायिक हिरासत में रखा जा सकता है.

First published: 30 December 2016, 11:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी