Home » जम्मू-कश्मीर » young Kashmir footballer belongs to Anantnag's who join lashkar few days back surrenders in the front of security forces in jammu kashmir
 

8 दिन पहले आतंकी बने कश्मीर के फुटबॉलर माजिद ने की घर वापसी

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 November 2017, 17:40 IST

जम्मू-कश्मीर से शुक्रवार को एक अच्छी खबर आई. ये खबर सुरक्षाबलों के साथ शांति का प्रयास कर रही केंद्र सरकार के लिए भी शगुन देने वाली है. पिछले कुछ समय से कश्मीर में सेना ने आतंकी वारदातों पर लगाम लगाने के लिए ऑपरेशन आलआउट चलाया हुआ है. इसका विरोध भी कश्मीर में कुछ लोग कर रहे हैं. इसके अलावा कई युवाओं पर सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी के आरोप भी लगे हैं.

शुक्रवार को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में रहने वाले युवा ने बड़ा कदम उठाकर सबका दिल जीत लिया. ये आतंक का समर्थन करने वाले और पनाह देने वालों पर भी एक करारा तमाचा है. 8 दिन पहले पाक समर्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में शामिल 20 साल के युवा फुटबॉलर माजिद खान ने घर वापसी का फैसला लिया है. शुक्रवार को माजिद हथियार छोड़कर मुख्यधारा में लौट आया. माजिद ने सुरक्षाबलों के सामने शुक्रवार को सरेंडर कर दिया.

माजिद के इस फैसले की भारतीय सेना ने तारीफ की है. सेना की विक्टर फोर्स के जीओसी मेजर जनरल बीएस राजू ने कहा, "ये एक बहादुरी वाला फैसला है. हम माजिद के इस फैसले की सराहना करते हैं और यकीन दिलाते हैं कि वो दोबारा अपनी आम जिंदगी में वापस जाएगा."

गौरतलब है कि आतंकी संगठन लश्कर से जुड़ने से पहले माजिद एक समाजसेवी संस्था के साथ काम करता था. समाज कल्याण से जुड़े कामों को करने वाली इस संस्था में माजिद बतौर कार्यकर्ता जुड़ा था और वह इमर्जेंसी हेड था.

जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफती ने ट्वीट कर उसके सरेंडर की पुष्टि कर दी है. महबूबा मुफती ने माजिद के सरेंडर पर ट्वीट करते हुए लिखा है, "अंतत: मां की ममता जीत गई. उसकी करुणामयी अपील ने एक उभरते फुटबाल खिलाड़ी को घर लौटने के लिए प्रेरित किया."

First published: 17 November 2017, 17:40 IST
 
अगली कहानी