Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » Bihari boy IITian Adarsh ​​Kumar offered job by Google on the annual package of 1 crore 20 lakh rupees
 

गूगल में 1 करोड़ की नौकरी पाने वाले बिहार के इस लाल ने 10वीं-12वीं के स्टूडेंट्स को दिए ये टिप्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 June 2018, 13:30 IST
adarsh kumar google

गूगल में नौकरी पाने का सपना पूरी दुनिया के अधिकांश युवा देखते हैं, लेकिन दिग्गज इंटरनेट कंपनी गूगल करोड़ों की भीड़ में योग्य प्रतिभा को ढूंढ निकालता है. बिहार के आदर्श कुमार को गूगल ने एक करोड़ बीस लाख रुपये सालाना पैकेज पर नौकरी दी है. आदर्श पटना के बुद्धा कॉलोनी के निवासी हैं और उन्होंने IIT रूड़की से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है. लेकिन वह अपना करियर सॉफ़्टवेयर इंजीनियर के तौर पर शुरू कर रहे हैं.

आदर्श बचपन से ही प्रतिभावान स्टूडेंट थे. उन्हें 12th बोर्ड एग्जाम के मैथ्स और कैमिस्ट्री पेपर में पूरे 100 मार्क्स मिले थे.आदर्श ने जब गूगल में अप्लाई किया तो कई राउंड की टेस्ट के बाद उनका चयन किया गया. लगभग दो महीने तक चले कई ऑनलाइन इंटरव्यू और हैदराबाद में हुए ऑन-साइट स्टेज टेस्ट से गुजरने के बाद उनका सेलेक्शन हुआ. आदर्श अगस्त से गूगल के म्यूनिख (जर्मनी) ऑफ़िस में काम करना शुरू करेंगे.

ये भी पढ़ें - RRB: रेलवे ग्रुप-C और ग्रुप-D में नौकरी पाने का मौका, 10वीं पास भी करें आवेदन

ऐसे करें इंजीनियरिंग की तैयारी

आदर्श ने इंजीनियरिंग की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स को सलाह दी है कि ''नौवीं-दसवीं के दौरान ही तैयारी शुरु कर देनी चाहिए. इस दौरान सिलेबस का बोझ थोड़ा कम रहता है तो इसका फायदा उठाते हुए 11वीं-12वीं की पढ़ाई शुरु कर देनी चाहिए जिससे IIT-JEE क्रैक करने में उन्हें काफी आसानी होगी. सफलता के लिए फ़ोकस करके पढ़ना तो सबसे ज़रूरी है.''

मेकेनिकल ब्रांच से सॉफ़्टवेयर इंजीनियर तक का सफर

आदर्श ने कहा 'मेरा नामांकन तो मेकेनिकल ब्रांच में हुआ था, लेकिन मेरा इंटरेस्ट मैथ और प्रोग्रामिंग में था. IIT रुडकी में पढ़ाई के दौरान भी प्रोग्रामिंग करना जारी रखा. इंटरव्यू के दौरान गूगल द्वारा भी मुझसे प्रोग्रामिंग के ही सवाल पूछे गये. 3rd क्लास से 12th तक की स्टडी बीडी पब्लिक स्कूल पटना से किया है.

वह कहते हैं, शुरू से मेरी तमन्ना मैथ में थी, लिहाजा मैंने जेईई एग्जाम दिया और जब रैंक जारी हुआ तो मुझे आईआईटी रुडकी में सीट अलॉट हुआ.आदर्श के मुताबिक, इंजीनियरिंग के चौथे साल तक आते-आते प्रोग्रामिंग पर उनकी अच्छी पकड़ हो गई थी. उनमें आत्मविश्वास आ गया था. इस बीच कैंपस सेलेक्शन से वे एक कंपनी के लिए चुन भी लिए गए थे.

First published: 3 June 2018, 12:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी