Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » Government Job: acid attack survives will get reservation in government jobs
 

खुशखबरी: तेज़ाब पीड़ितों को मिलेगा सरकारी नौकरी में आरक्षण

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 January 2018, 14:31 IST

सरकार ने तेजाब हमले के शिकार लोगों को दिव्यांग श्रेणी के अंतर्गत नौकरी में आरक्षण देने का फैसला लिया है. इसके तहत अब मुख्य रूप से तेजाब हमले के पीड़ितों को सरकारी नौकरी के विभिन्न श्रेणियों में 1 प्रतिशत का कोटा दिया जाएगा.

इस मामले में केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय की तरफ से दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं. इसी के साथ अब सरकारी नौकरियों में मिलने वाले दिव्यांगों की आरक्षण सीमा 4 प्रतिशत से बढ़कर 5 प्रतिशत हो गई है. 2016 में पारित दिव्यांगो के अधिकार अधिनियम के अनुसार आरक्षण के बंटवारे के लिए 4 श्रेणियां बनाई गई थी जिसमें हर श्रेणी के दिव्यांग उम्मीदवार के लिए 1 प्रतिशत का सरकारी नौकरी में आरक्षण रखा गया था.

पहली श्रेणी में नेत्रहीन एवं कमजोर दृष्टि विकार वाले लोग है. दूसरी श्रेणी में बहरे और कम सुन पाने वालों को रखा गया है.तीसरी श्रेणी में शारीरिक रूप से अक्षम लोगों को शामिल किया गया है जिसमें अब तेजाब हमले के शिकार लोग, ठीक हो चुके कुष्ठ रोगी, सेरेब्रल पाल्सी के शिकार, क्षतिग्रस्त मांसपेसियों से ग्रस्त को भी जोड़ दिया गया है.

ऑटिजम, मानसिक बीमारियों, बौद्धिक अक्षमता एवं तेजाब हमला पीड़ितों को अब केंद्र सरकार की नौकरियों में कोटा मिलेगा. एक आधिकारिक आदेश में यह कहा गया कि समूह ए, बी एवं सी श्रेणी में सीधी भर्ती के मामले में मानक अक्षमता से ग्रस्त निशक्तजनों के लिए आरक्षण की व्यवस्था मौजूदा 3 फीसदी से बढ़कर कुल वैंकेंसी का चार फीसदी हो जाएगी.

मानक अक्षमता का अर्थ है किसी व्यक्ति में विशिष्ट अक्षमता 40 फीसदी से कम नहीं हो. कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) ने हाल में केंद्र सरकार के सभी विभागों को  यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि प्रत्येक पदों का 1 फीसदी दृष्टिहीन और कम दृश्यता वाले लोगों, मूक बधिरों, सेरेब्रल पाल्सी समेत चलने-फिरने में अक्षम लोगों, कुष्ठ रोग से निदान पाये लोगों, बौनेपन से ग्रस्त, तेजाब हमला पीड़ितों एवं मांसपेशीय विकार से ग्रस्त लोगों के लिए आरक्षित की जाए.

खाली पड़े पदों पर कोई और नहीं कर सकेगा दावा

कार्मिक मंत्रालय ने दिशा निर्देशों में यह स्पष्ट कर दिया है कि दिव्यागों के लिए आरक्षित नौकरी प्रतिशत के तहत खाली पड़े पदों को सामान्य या किसी अन्य श्रेणी के उम्मीदवारों के द्वारा नहीं भरा जाएगा .
अगर किसी वजह से भर्ती प्रक्रिया के दौरान दिव्यांग आवेदन नहीं मिलते हैं तब भी इन पदों पर भर्ती नहीं की जाएगी तथा इन्हें खाली माना जाएगा और फिर अगली बार प्रक्रिया में इसे भरा जाएगा.

First published: 30 January 2018, 14:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी