Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » Kota Rajasthan: students are committing suicide due to study pressure
 

इंजीनियर बनने का सपना लेकर कोटा पहुंच रहे छात्र मौत को लगा रहे गले, कोचिंग सेंटर्स बने वजह

न्यूज एजेंसी | Updated on: 2 January 2019, 11:43 IST
(File Photo)

राजस्थान के कोटा शहर के लिए दिसंबर का महीना अशुभ शाबित हुआ. बीते एक माह में यहां कोचिंग कर रहे चार छात्रों ने आत्महत्या कर ली. कोटा शहर गत कई वर्षो से कोचिंग कर रहे छात्रों द्वारा आत्महत्या किए जाने से देश भर में चर्चा का विषय रहा है लेकिन एक माह में ही चार छात्रों द्वारा जान देने की घटना ने सोचने पर मजबूर कर दिया कि आखिर यह आत्महत्या करने का अन्तहीन सिलसिला कहां जाकर रुकेगा.

पुलिस के अनुसार, कोटा में कोचिंग कर रहे विद्यार्थियों की आत्महत्या की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है. साल 2018 में 19 छात्र मौत को गले लगा चुके हैं. कोटा में पुलिस, प्रशासन, कोचिंग संस्थान ने छात्र-छात्राओं में पढ़ाई का तनाव कम करने के बहुत से प्रयास किए लेकिन घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रहीं. इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में नामांकन कराने के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षाओं की तैयार करने के लिए देशभर से हर साल करीबन दो लाख छात्र कोटा आते हैं और यहां के विभिन्न निजी कोचिंग सेंटरों में दाखिला लेकर तैयारी में लगे रहते हैं. लेकिन चिंता की बात यह है कि परीक्षा उत्तीर्ण करने के दबाव में आकर पिछले कुछ वर्षो में काफी छात्रों ने आत्महत्या की है, जिसके लिए अत्यधिक मानसिक तनाव को कारण माना जा रहा है.

कोटा शहर के हर चौक-चौराहे पर छात्रों की सफलता के बड़े-बड़े होर्डिग्स बताते हैं कि कोटा में कोचिंग ही सब कुछ है. ये हकीकत है कि कोटा में सफलता का स्ट्राइक तीस फीसदी से ऊपर रहता है और देश के इंजीनियरिंग और मेडिकल के प्रतियोगी परीक्षाओं में टॉप टेन में से कम से पांच छात्र कोटा के ही रहते हैं. लेकिन कोटा का एक और सच भी है जो बेहद भयावह है. एक बड़ी संख्या उन छात्रों की भी है जो असफल हो जाते हैं और उनमें से कुछ ऐसे होते हैं जो अपनी असफलता बर्दाश्त नहीं कर पाते.

कोचिंग की मंडी बन चुका राजस्थान का कोटा शहर अब आत्महत्याओं का गढ़ बनता जा रहा है. यहां शिक्षा के बजाय सपने बेचने का कारोबार हो रहा है जो मौत में तब्दील हो रहा है. कोटा एक तरफ जहां मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में बेहतर परिणाम देने के लिए जाना जाता है, वहीं इन दिनों छात्रों द्वारा आत्महत्या के बढ़ते मामलों को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में है.

सत्ता बचाने के लिए मायावती से डरी कांग्रेस, दलितों के लिए उठाया ये बड़ा कदम

कोटा पुलिस के अनुसार साल 2018 में 19 छात्र, 2017 में सात छात्र, 2016 में 18 छात्र और 2015 में 31 छात्रों ने मौत को गले लगा लिया. वर्ष 2014 में कोटा में 45 छात्रों ने आत्महत्या की थी, जो 2013 की अपेक्षा लगभग 61.3 प्रतिशत ज्यादा थी.

शिक्षा नगरी के रूप में प्रसिद्ध कोटा में कोचिंग संस्थानों की संख्या में वृद्धि के साथ-साथ आत्महत्याओं के ग्राफ में भी वृद्धि हो रही है. दो वर्ष पूर्व आत्महत्या करने वाली कोचिंग छात्रा कीर्ति त्रिपाठी के सुसाइड नोट में कुछ और बातें सामने आई थी. अपने सुसाइड नोट में कीर्ति ने लिखा था कि भारत सरकार और मानव संसाधन विकास मंत्रालय को जल्द से जल्द इन कोचिंग संस्थानों को बंद कर देना चाहिए, क्योंकि यहां बच्चों को तनाव मिल रहा है. उसने लिखा था कि मैंने कई लोगों को तनाव से बाहर आने में मदद की, लेकिन कितना हास्यास्पद है कि मैं खुद को इससे नहीं बचा पाई.

पतियों को तलाक़ देकर दो मुस्लिम महिलाओं ने रचाई अनूठी शादी, शादी पर भरी पड़ा 7 साल का प्यार

वह अपने लिए पढ़ाई और मनोरंजन की गतिविधियों के लिए एक निश्चित समय निर्धारित ही नहीं कर पाता, जिससे उस पर तनाव हावी होता है. ऊपर से 500-600 बच्चों का एक बैच होता है, जिसमें शिक्षक और छात्र का तो इंटरेक्शन हो ही नहीं पाता. अगर एक छात्र को कुछ समझ न भी आए तो वह इतनी भीड़ में पूछने में भी संकोच करता है. विषय को लेकर उसकी जिज्ञासाएं शांत नहीं हो पातीं और धीरे-धीरे उस पर दबाव बढ़ता जाता है. ऐसे ही अधिकांश छात्र आत्महत्या करते हैं.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक मोबाइल पोर्टल और ऐप लाने का इरादा जताया है, ताकि इंजीनियरिंग में दाखिले की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए कोचिंग की मजबूरी खत्म की जा सके. चूंकि इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम, आयु, अवसर और परीक्षा का ढांचा कुछ ऐसा है कि विद्यार्थियों के सामने कम अवधि में कामयाब होने की कोशिश एक बाध्यता होती है इसलिए वे सीधे-सीधे कोचिंग संस्थानों का सहारा लेते हैं. अगर मोबाइल पोर्टल और ऐप की सुविधा उपलब्ध होती है, तो इससे इंजीनियरिंग में दाखिले की तैयारी के लिए विद्यार्थियों के सामने कोचिंग के मुकाबले बेहतर विकल्प खुलेंगे.

40 साल की परंपरा तोड़ 2 महिलाओं ने सबरीमाला मंदिर में किया प्रवेश

कोटा में सफलता की बड़ी वजह यहां के शिक्षक हैं. आईआईटी और एम्स जैसे इंजीनियरिंग और मेडिकल कालेजों में पढ़ने वाले छात्र बड़ी-बड़ी कम्पनियों और अस्पतालों की नौकरियां छोड़कर यहां कोचिंग संस्थाओं में पढ़ाने आ रहे हैं, क्योंकि यहां तनख्वाह कहीं ज्यादा है. अकेले कोटा शहर में 75 से ज्यादा आईआईटी स्टूडेंट छात्रों को पढ़ा रहे हैं. कोटा के एलन कोचिंग का नाम तो लिम्का बुक आफ रिकार्डस में है. इसमें अकेले एक लाख छात्र पढ़ते हैं इतने छात्र तो किसी यूनिवर्सिटी में भी नहीं पढ़ते हैं.

 

First published: 2 January 2019, 11:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी