Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » SSC CGL: Guidance for Staff selection commission CGL exam preparation tips and trick
 

SSC CGL: इस ट्रिक से करें परीक्षा की तैयारी, आसानी से पाएं सफलता

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2018, 11:11 IST

SSC CGL: कर्मचारी चयन आयोग द्वारा प्रत्येक साल SSC- CGL यानि कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल एग्जाम का आयोजन करती है. इस एग्जाम के जरिए केंद्र सरकार अधिनस्त विभिन्न कार्यालय और विभागों में ग्रुप 'B' के लिए योग्य उम्मीदवारों का चयन किया जाता है. इस 4 स्तरीय परीक्षा में पास उम्मीदवारों को उनके रैंक और प्राप्त स्कोर के आधार पर CBI ऑफिसर, इनकम टैक्स इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर (Central Excise), ऑडिटर सहित कई पदों पर जॉब ऑफर किया जाता है.

ये भी पढ़ें-इस साल 5 लाख युवा बने 'बेरोजगार इंजीनियर', अब करेंगे चपरासी की नौकरी

सरकारी नौकरी की चाहत पाने का रखने वाले लोगों के लिए SSC- CGL एक बेहतर विकल्प है. अगर इस एग्जाम की तैयारी सही प्लानिंग और सटीक स्ट्रेटेजी से की जाए तो सफलता मिलना ज्यादा मुश्किल नहीं है. सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले छात्रों में यह परीक्षा काफी लोकप्रिय है. पिछले साल  2017 में एसएससी-सीजीएल के लिए लगभग 30 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन किया था.

एग्जाम पैटर्न

एसएससी-सीजीएल की परीक्षा 4 अलग-अलग टियर में आयोजित की जाती है.

टियर-1 एग्जाम

यह परीक्षा ऑनलाइन कंप्यूटर बेस्ड ली जाती है. इसमें 4 सेक्शन में सवाल बटें होते हैं. प्रत्येक सेक्शन में 50-50 नंबर के प्रश्न पूछे जाते हैं और इसके लिए 1 घंटे का समय निर्धारित होता है. इस एग्जाम में जनरल स्टडी, क्वॉन्टिटेटिव ऐप्टिट्यूड, करंट अफेयर्स और इंग्लिश विषय से सवाल पूछे जाते हैं. जनरल स्टडी के लिए  NCERT की बेसिक टेक्स्ट बुक्स के काफी मदद मिलती है. करंट अफेयर्स के लिए अखबार, न्यूज चैनल और मैगज़ीन की सहायता ली जा सकती है.

टियर-2 एग्जाम

SSC- CGL के इस लेवल में मैथ सब्जेक्ट से 200 अंकों के और अंग्रेजी से भी 200 अंकों के प्रश्न पूछे जाते हैं. इंग्लिश में कॉम्प्रिहेंशन और Vocabulary से ज्यादा सवाल आते हैं. इन टॉपिक्स की लगातार प्रैक्टिस से ही इनपर पकड़ बनाई जा सकती है.

टियर-3 एग्जाम

टियर-3 लेवल की परीक्षा 100 अंकों की होती है. इसमें कैंडिडेट्स को हिंदी या अंग्रेजी या में निबंध लिखना होता है. इसमें सिर्फ डिस्क्रिप्टिव टाइप के सवाल पूछे जाते हैं, लगातार प्रैक्टिस से ही इसमें अच्छा स्कोर पाया जा सकता है.

टियर 4 एग्जाम

इस लेवल में उम्मीदवारों की टाइपिंग स्किल का टेस्ट लिया जाता है. उम्मीदवारों के पास कंप्यूटर की बेसिक जानकारी होना जरूरी है. टाइपिंग में ऐक्यूरेसी पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए और कंप्यूटर पर टाइपिंग की प्रैक्टिस करें.

First published: 17 July 2018, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी