Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » UP Police Recruitment 2018 No Written Test For 35 Thousand Post of Police in Uttar Pradesh
 

यूपी पुलिस भर्ती का रास्ता साफ, बिना परीक्षा के होगी 35 हजार पदों पर भर्ती

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2018, 12:30 IST

उत्तर प्रदेश में पुलिस और पीएसी सिपाहियों की भर्ती बंपर भर्ती होगी. भर्ती को लेकर हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है. जिससे यूपी में 34716 पुलिस और पीएसी सिपाहियों की भर्ती का रास्ता साफ हो गया है. हाईकोर्ट ने भर्ती प्रक्रिया को चुनौती देने वाली सभी याचिकाएं एक खारिज कर दी हैं. याचिकाओं में दिसंबर 2015 में जारी विज्ञापन के तहत बिना लिखित परीक्षा के भर्ती करने के नियम को चुनौती दी गई थी.

कोर्ट ने कहा बिना लिखित परीक्षा चयन अवैधानिकता नहीं

कोर्ट ने कहा कि बिना लिखित परीक्षा के सिपाहियों का चयन करने में कोई अवैधानिकता नहीं है. रणविजय सिंह और दर्जनों अन्य की याचिकाओं पर मुख्य न्यायमूर्ति डीबी भोसले और न्यायमूर्ति सुनीत कुमार की पीठ ने सुनवाई की. अधिवक्ताओं का कहना था कि 2008 के नियम 15 में सिपाही भर्ती के लिए प्रारंभिक लिखित और मुख्य लिखित परीक्षा के अलावा शारीरिक दक्षता और मेडिकल परीक्षण का प्रावधान है.

 

इसी आधार पर भर्तियां होती रही हैं. 2013 की 35500 सिपाही भर्ती भी इसी आधार पर की गई. प्रदेश सरकार ने अचानक नियम बदलते हुए 2015 सिपाहियों की भर्ती हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के प्राप्तांक के आधार पर मेरिट बनाकर करने का निर्णय ले लिया. दलील दी गई कि ऐसा करने से योग्य सिपाहियों का चयन नहीं हो सकेगा.

ये भी पढ़ें- काश ऐसा टीचर हर गांव में होता, सिर्फ एक बच्चे को पढ़ाने के लिए सहते हैं ये मुश्किलें

हाईकोर्ट ने अंतरिम आदेश के तहत अंतिम चयन परिणाम जारी करने पर रोक लगा दी थी.
प्रदेश सरकार की ओर से अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल ने कहा कि पुरानी प्रक्रिया में चयन में दो से तीन वर्ष का समय लग जाता है.

उल्लेखनीय है कि 12 दिसंबर 2015 को जारी विज्ञापन में पुलिस और पीएसी में 28916 पुरुष आरक्षियों तथा पुलिस में 5800 महिला आरक्षियों की भर्ती की जानी थी. इसके लिए पुलिस विभाग ने 2008 की नियमावली के नियम 15 में संशोधन कर लिखित परीक्षा का प्रावधान समाप्त कर दिया. इसे कोर्ट में चुनौती दी गई थी.

First published: 31 March 2018, 12:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी