Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » UP: uttar pradesh teachers who do not send selfie will not cost reduction in salary
 

यूपी सरकार ने वापस लिया ये फैसला, लाखों शिक्षकों को मिली बड़ी राहत

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 July 2019, 18:08 IST

उत्तर प्रदेश सरकार ने सरकारी शिक्षकों को बड़ी राहत दी है. राज्य की प्राथमिक स्कूलों में सुबह प्रार्थना के दौरान सेल्फी खींचकर नहीं भेजने वाले शिक्षकों के वेतन काटने का फैसला सरकार ने वापस ले लिया है. गौरतलब है कि कुछ पहले कुछ दिन एक खबर चर्चा में आई थी कि उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के सभी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों उपस्थिति दर्ज कराने के लिए क्लास के सामने अपनी सेल्फी भेजने को कहा गया था. इसमें प्रावधान था कि अगर कोई शिक्षक ऐसा नहीं करता है तो उनकी सैलरी काट दी जाएगी.

यूपी बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने विधान परिषद में कहा कि सेल्फी न भेजने वाले शिक्षकों का उस दिन का वेतन काटने का आदेश वापस ले लिया गया है. शिक्षा मंत्री ने कहा कि ग्रामीण अक्सर शिक्षकों के समय पर स्कूल न आने की शिकायत करते हैं. इसीलिए स्कूलों में सेल्फी की व्यवस्था लागू की गई है. सरकार शिक्षकों के साथ है और किसी भी हालात में उनका अपमान नहीं करना चाहती.

शिक्षक संघ के नेता ओम प्रकाश शर्मा, हेम सिंह पुंडीर और अन्य सदस्यों ने सरकारी प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों को रोज सुबह प्रार्थना के दौरान सेल्फी खींचकर अपने वरीय अधिकारी को भेजने के आदेश को नियम विरुद्ध करार देते हुए कार्यस्थगन प्रस्ताव के जरिए यह मुद्दा उठाया. पुंडीर और शर्मा ने कहा कि सेल्फी खींचकर भेजने की व्यवस्था में प्रोत्साहन के साथ दंड भी लगा दिया गया है, जो उचित नहीं है.

First published: 25 July 2019, 18:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी