Home » गवर्मेन्ट जॉब्स » UPSSSC recruitment exam postponed due to Hindi paper leak, paper gone viral on social media
 

UPSSSC ने रद्द की परीक्षा, कई लोगों पर FIR दर्ज, ट्रेजरी के डबल लॉक से पेपर लीक का आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 September 2018, 10:20 IST

उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) ने नलकूप ऑपरेटर भर्ती परीक्षा रद्द कर दी है. यह फैसला हिन्दी पेपर लीक होने और सोशल मीडिया पर वायरल होने के आरोपों के बीच लिया गया है. यह परीक्षा नलकूप चालक के 3200 से ज्‍यादा पदों के लिए राज्य के 8 जिलों में आयोजित कराई जानी थी हुए इसके लिए लगभग 2.5 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन किया था.

UPSSSC के चेयरमैन सीबी पालीवाल ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे प्रश्न पत्र छापने वाली एजेंसी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें. पालीवाल ने आगे कहा है कि "हम उस एजेंसी के खिलाफ कार्रवाई करेंगे जिसे क्वेश्चन-पेपर छापने की ज़िम्मेदारी दी गई थी. हमने पेपर लीक के बारे में उनसे स्पष्टीकरण मांगा है."

UPSSSC ने  पेपर लीक मामले में एफआईआर दर्ज करा दी है. UPSSSC के परीक्षा नियंत्रक की तरफ से ये FIR लखनऊ के विभूतिखंड थाने में दर्ज कराई गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नकल माफियाओं ने ट्रेजरी के डबल लॉक में रखे प्रश्न पत्र को निकाल लिया था. ऐसे में उत्तर प्रदेश  शासन ने परीक्षा रद्द कर दी है.

मामले में कार्रवाई करते हुए यूपी एसटीएफ  ने पेपर लीक करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है. एसटीएफ ने मेरठ थाना के सदर बाजार से इस गिरोह के 11 सदस्‍यों को गिरफ्तार किया है.

15 लाख रुपये कैश जब्‍त

यूपी एसटीएफ की इस कार्रवाई में गिरफ्तार आरोपियों से दर्जनों मोबाइल फोन, एडमिट कार्ड,  15 लाख रुपये कैश और अन्य डॉक्यूमेंट बरामद किए गए हैं. बताया जा रहा है कि यह गिरोह प्रत्येक छात्र से परीक्षा पास कराने के एवज में 6 से 7 लाख रुपये की वसूली करता था और परीक्षा से एक रात पहले ही नकल माफिया पेपर लीक कर उम्मीदवारों को किसी जगह पर बुला कर याद कराते थे.

First published: 3 September 2018, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी