Home » लाइफ स्टाइल » follow these tips to prevent your child to dehydration and sunstrock in summer season
 

गर्मी के मौसम में कुछ ऐसे रखें अपने बच्चों का ख्याल, होगी सही देखभाल

न्यूज एजेंसी | Updated on: 15 June 2018, 16:13 IST

गर्मियों का मतलब जहां युवाओं व बुजुर्गो के लिए तेज धूप, धूल भरी गर्म हवाओं, उमस, संक्रमण और कई तरह की बीमारियों से जुड़ा है, वहीं बच्चों के लिए गर्मियां स्कूल, पढ़ाई, टीचर्स, होमवर्क इन सभी से आजादी से जुड़ी है. गर्मी की छुट्टियों में बच्चे खेल-कूद, मनोरंजन और खाने-पीने में ज्यादा समय बिताते हैं, जिससे उनके परिजनों को उनपर ध्यान रखना थोड़ा ज्यादा मुश्किल हो जाता है. ब

च्चों की इन्हीं बेफेक्री को ध्यान में रखते हुए इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स के पीडिएट्रिक गैस्ट्रोएंट्रोलोजी के कन्सलटेन्ट डॉ. विद्युत भाटिया ने कुछ आसान से सुझाव दिए हैं, जिससे आप अपने बच्चों का बेहतर तरीके से ध्यान रख सकते हैं.

1-गर्मी से बचें: ध्यान रखें कि आपका बच्चा दिनभर हाइड्रेटेड रहे, खेलकूद और आउटडोर गतिविधियों में व्यस्त रहने के दौरान बच्चे अक्सर पानी पीना भूल जाते हैं और घण्टों प्यासे रहते हैं. इसके लिए बच्चों के ऐसे विकल्प दें, जिससे उनके शरीर में पानी और इलेक्ट्रोलाइट का संतुलन बना रहे. हालांकि पानी का कोई विकल्प नहीं है, लेकिन इस मौकस में नारियल पानी, फलों के रस, स्रिटस फल, लस्सी, छाछ और फलों की स्मूदीज अच्छा विकल्प हो सकते हैं.

2-बच्चे को काबोर्नेटेड पेय पदार्थों से दूर रखें: इनसे शरीर सिर्फ डीहाइडेज्ट होता है, और शरीर में शुगर यानि चीनी का स्तर बढ़ जाता है. 

3-सही अहार पर ध्यान दें: गर्मियों में सही आहार बहुत महत्वपूर्ण होता है. इस सीजन में शरीर को अतिरिक्त उर्जा की जरूरत होती है, क्योंकि तापमान बढ़ने के साथ शरीर में मैटाबोलिक बदलाव आते हैं. इसलिए सलाह दी जाती है कि तेल और वसा से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन न करें. मौसमी फलों, सब्जियों और प्र्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए. इससे बच्चे दिन भर सक्रिय रह सकते हैं. गर्मियों के मौसम में आम, लीची, केला, तरबूज, खरबूजा, प्लम और चैरी जैसे ढेरों विकल्प उपलब्ध होते हैं.

4-अपने आप को ढककर रखें: धूप सेहत के लिए फायदेमंद होती है, लेकिन गर्मियों में धूप बहुत तेज होती है जो हमें बीमार कर सकती है. बच्चे थोड़ी देर तेज धूप में रहने पर भी डिहाइड्रेशन और सनस्ट्रोक का शिकार हो सकते हैं. इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि दिन भर घर में ही रहें, सुबह जल्दी और शाम को ही बाहर जाएं.

5-बच्चे को कभी भी कार में बंद न करें: ऐसे बहुत से उदाहरण देखे गए हैं जब बच्चों की बंद कार में मौत हो जाती है. माता-पिता उन्हें धूप से बचाने के लिए कार में कुछ देर बंद कर के चले जाते हैं. यह समझना जरूरी है कि बंद जगह पर तापमान जल्दी बढ़ता है. कार में तो ऐसा और भी तेजी से होता है, क्योंकि कार की बॉडी मैटल से बनी होती है. थोड़ी ही देर में कार ओवन की तरह तपने लगती है. बच्चे के लिए सांस लेना तक मुश्किल हो जाता है. ऐसे में बच्चों के साथ बड़ों को भी यह सावधानी बरतनी चाहिए.

ये भी पढ़ें- भारत में बेहतर हुई स्वास्थ्य सेवा, मातृ मृत्यु दर घटने के नतीजे हैं चौंकाने वाले

6-घर के भीतर भी बच्चों का पूरा ध्यान रखें: घर के भीतर भी बच्चों का पूरा ध्यान रखना जरूरी है. उन्हें बीच बीच में पानी और तरल पदार्थ देते रहें. डिहाइड्रेशन कहीं भी हो सकता है, घर के भीतर भी तापमान अचानक बढ़ जाता है.

7-एलर्जी और मौसमी बदलाव का ध्यान रखें: गर्मियों में मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया का खतरा बढ़ जाता है. इसी तरह पीलिया, त्वचा रोगों और डायरिया की संभावना भी बढ़ जाती है. ऐसे में जरूरी है कि बच्चों को मच्छरों से सुरक्षित रखा जाए. मॉस्क्यूटो रेपेलेंट का इस्तेमाल करें, बच्चों को पूरी बाजू के कपड़े पहनाएं और एंटी मॉस्क्यूटो पैच या जैल इस्तेमाल करें.

ये भी पढ़ें- अब ब्रेन ट्यूमर के मरीज भी ऐसे जी सकते है लंबी जिंदगी

 

8-गर्मियों में खेलों के दौरान सावधानी बरतें: तैराकी हो या अन्य खेल जैसे क्रिकेट, फुटबॉल, बैडमिंटर आदि. खेल के दौरान अपने आप को धूप से सुरक्षित रखना और खूब पानी पीना जरूरी है.

9-समर केयर किट: समर केयर किट तैयार कर लें, बच्चे को घर के अंदर गतिविधियों में व्यस्त रखें. इस किट में ग्लूकोज, ओआरएस, पानी की बोतल, टोपी, धूप का चश्मा, नोट बुक और गर्मियों के लिए विशेष निर्देश होने चहिए. साथ ही 'क्या करें' और 'क्या न करें' और 'आपातकालीन स्थिति के लिए कॉन्टेक्ट नम्बर' जैसी सभी चीजें भी होनी चाहिए.

First published: 15 June 2018, 15:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी