Home » लाइफ स्टाइल » The secrets your face can reveal about your health
 

आपके चेहरे के निशान खोल देते हैं आपके सारे सीक्रेट, जानकार रह जायेंगे हैरान

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 September 2019, 10:27 IST
(New york post)

जर्मनी में जन्मे एरिक स्टैंडॉप को 30 की उम्र में बड़ी सफलता मिल गई थी. पहले वह एक यूरोपीय थिएटर सीरीज चलाते थे और फिर एक कंप्यूटर गेम कंपनी के लिए निदेशक बन गए. उसका काम उन्हें ख़त्म कर रहा था. उन्हें अनिद्रा होने लगी थी, चेहरे पर चकत्ते हो रहे थे और और डॉक्टरों से उन्होंने 15 अलग-अलग डाइग्नोसिसि करवाए थे. 2004 में एरिक ने नौकरी छोड़ दी और वह दक्षिण अफ्रीका में एक व्यक्ति से मिला, जो खुद को फेस रीडर होने का दावा करता था. उसने एक ही नजर में एरिक की सारी समस्याएं बता दी. 

न्यूयॉर्क पोस्ट के अनुसार यूरोपीय और एशियाई विश्वास प्रणालियों के आधार परएरिक स्टैंडॉप का दावा है कि इंसान के चेहरे पर एक नजर से सब कुछ पता किया किया सकता है. जिसमे एक व्यक्ति की वास्तविक प्रकृति और उनके स्वास्थ्य की स्थिति शामिल है. स्टैंडॉप लिखते हैं "विशेष रूप से आंखें और मुंह, नाक, कान, भौं और बाल हमारे व्यक्तित्व को परिभाषित करता है."

अब ग्लोबल फेस रीडिंग अकादमी के प्रमुख के रूप में पूर्णकालिक काम करते हुए, स्टैंडप कहते हैं कि उन्होंने अपनी तकनीकों के साथ चार महाद्वीपों में 15,000 से अधिक लोगों की मदद की. फेस रीडिंग को पश्चिम में 20 वीं सदी के अधिकांश लोगों ने छद्म विज्ञान के रूप में खारिज कर दिया.

New york post

इसका अध्ययन करने वाले कुछ वैज्ञानिक अभी भी इसे फिजियोग्निओमी, चेहरों से चरित्र को पहचानने का अभ्यास के रूप में अस्वीकार करते हैं. न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय, स्टैनफोर्ड और प्रिंसटन में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय जैसे प्रमुख विश्वविद्यालयों में इसका अध्ययन किया जा रहा है. एरिक स्टैंडॉप अपने ग्राहकों को अपने स्वास्थ्य से संबंधित संदेह की पुष्टि करने के लिए एक डॉक्टर को देखने के लिए कहता है.

लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए फेस रीडिंग का उपयोग करता है. जब एक महिला अपॉइंटमेंट लेने के लिएएरिक स्टैंडॉप के कार्यालय में आई, तो उन्होंने उसे गर्भावस्था की बधाई दी, जिसे महिला छिपा रही थी. महिला ने पूछा तुम्हे कैसे पता चला ? स्टैंडअप ने जवाब दिया आपके माथे पर मेलास्मा , जो एक भूरा पिग्मेंटेशन है. इसे क्लोस्मा या प्रेग्नेंसी के मास्क के रूप में भी जाना जाता है."

यह हार्मोन डिस्ऑर्डर है जो थायरॉयड रोग और तनाव के कारण भी हो सकता है, लेकिन गर्भावस्था के समय यह सबसे आम होता है. 30 के दशक में एक डच महिला भयानक पीठ दर्द से पीड़ित थी, और डॉक्टरों के पास उसके लिए कोई जवाब नहीं था. स्टैंडअप ने देखा "उसकी नोज ब्रिज पर बहुत लाइने थी. जो पीठ दर्द के लिए एक पारंपरिक फेस रीडिंग मार्कर है. रेखाएँ जितनी ऊँची हों, उतनी ही पीछे की समस्या का समाधान होता है. नाक और ऊपरी होंठ के बीच एक क्षैतिज रेखा,और जौल्स संयोजी ऊतकों के साथ परेशानी का संकेत है."

अगर आप भी करते हैं आलू का सेवन तो हो जाएं सावधान ! आपकी जान का दुश्मन बन सकता है इसे खाने का शौक

First published: 29 September 2019, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी