Home » Lok Sabha Elections 2019 » Akhilesh Yadav Mayawati and Ajit Singh will hold a rally in Deoband on Sunday 7th April
 

आज देवबंद में एक मंच पर होंगे मायावती-अखिलेश और अजीत सिंह, 25 साल बाद साझा करेंगे मंच

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2019, 8:12 IST

देशभर में चुनावी रैलियों का शोर सुनाई दे रहा है ऐसे में सपा-बसपा और रालोद गठबंधन कहां पीछे रहने वाला है. देवबंद में 25 साल बाद सपा-बसपा-रालोद एक साथ मंच साधा करेंगे. इस मंच पर अखिलेश यादव, बसपा सुप्रीम मायावती और अजीत सिंह एक साथ नजर आएंगे. इस दिन को यूपी की राजनीति के लिए बड़ा दिन माना जा रहा है. क्योंकि सपा मुखिया अखिलेश और बसपा सुप्रीमो मायावती दोनों एक साथ चुनावी रैली को संबोधित करने जा रहे हैं.

एक अरसे बाद सपा और बसपा ने हाथ मिलाया है और अब एक साथ मंच भी साझा किया लेकिन अब जनसभा को संबोधित कर यूपी में चुनावी नैया पार लगाने की कोशिश करेंगे. आज यानि रविवार को दोनों दिग्गज नेता देवबंद सहारनपुर में जनसभा को संबोधिथ करेंगे. इन्ही लोकसभा सीट के लिए पहले चरण में चुनाव होना है.

बता दें कि 90 के दशक के बाद एक बार फिर राजनीतिक मंच पर एक साथ नजर आ रहे हैं. इससे पहले मंदिर-मस्जिद विवाद के चलते बीजेपी को सत्ता से दूर करने के लिए सपा और बसपा एक साथ नजर आए थे. बता दें कि साल 1993 में राज्य में विधानसभा चुनाव हुए थे, तब सपा को 110 सीटें और बसपा को 67 सीटें मिली थीं.

इस चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला, तब मुलायम सिंह यादव ने बसपा और अन्य दलों के साथ मिलकर सरकार बनाई थी. हालांकि तब बसपा ने सपा को बाहर से समर्थन दिया था, लेकिन 2 साल बाद यानि 1995 में सपा-बसपा गठबंदन टूट गया और तब से लेकर अब तक सपा-बसपा एक मंच पर साथ नहीं आए. उस दौर में मुलायम और कांशीराम ने गठबंधन धर्म निभाया था लेकिन अब लगभग 25 साल बाद मायावती और अखिलेश गठबंधन कर बीजेपी के विजयी रथ को रोकने की कोशिश कर रहे हैं.

पेट्रोल पंप पर काम करने वाले का बेटा सिर्फ 22 साल की उम्र में बना IAS, पिता ने दिया ये बलिदान

First published: 7 April 2019, 8:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी