Home » Lok Sabha Elections 2019 » EC asks Revenue Secy, CBDT Chairman to explain tax raids on politicians
 

चुनाव आयोग ने CBDT अधिकारियों को किया तलब, छापों पर मांगी सफाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 April 2019, 16:52 IST

चुनाव आयोग ने केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के राजस्व सचिव और चेयरमैन को मंगलवार को आयकर छापों पर चर्चा के लिए बुलाया है. राजस्व सचिव ए बी पांडे और सीबीडीटी के चेयरमैन पी. सी. मोदी को कांग्रेस द्वारा लगाए गए उन आरोपों के जवाब पूछने के लिए बुलाया गया है, जिनमें कहा गया है कि सत्तारूढ़ भाजपा चुनाव के दौरान प्रवर्तन एजेंसियों का उपयोग कर रही है.

चुनाव आयोग ने रविवार को वित्त मंत्रालय को सलाह दी कि चुनाव के समय उसकी प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा कोई भी कार्रवाई तटस्थ और गैर-भेदभावपूर्ण होनी चाहिए और इस तरह के कार्यों के बारे में पोल पैनल के अधिकारियों को जानकारी होनी चाहिए .चुनाव आयोग की सलाह मध्य प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में राजनेताओं के करीबियों पर पड़े छापेमारी के बाद सामने आया है.

10 मार्च को आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद से I-T विभाग ने राजनीतिक नेताओं और उनके सहयोगियों पर कई छापे मारे हैं, जिसे विपक्ष ने चुनावी मौसम के दौरान केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग का करार दिया है. आयकर विभाग ने सोमवार को कहा कि उसने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और अन्य के करीबी सहयोगियों के खिलाफ छापे के दौरान लगभग 281 करोड़ रुपये की बेहिसाब नकदी के के रैकेट का पता लगाया है.

इसमें कहा गया है कि मध्य प्रदेश और दिल्ली के बीच संदिग्ध भुगतानों की 14.6 करोड़ रुपये की नकदी और जब्त की गई और डायरियां और कंप्यूटर फाइलें बरामद की गईं. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने कहा कि विभाग ने तुगलक रोड पर रहने वाले एक महत्वपूर्ण व्यक्ति के घर से कथित तौर पर दिल्ली में एक प्रमुख राजनीतिक दल के मुख्यालय में ले जाए गए संदिग्ध 20 करोड़ रुपये का पता लगाया है.

अडानी की ऑस्ट्रेलिया में बड़ी जीत, कोयला खदान परियोजना को सरकार ने दी मंजूरी

First published: 9 April 2019, 16:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी