Home » Lok Sabha Elections 2019 » Election commission bars Azam Khan and Maneka Gandhi from election campaigning
 

आजम खान और मेनका गांधी पर भी गिरी चुनाव आयोग की गाज, प्रचार करने पर लगाई रोक

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 April 2019, 8:12 IST

पिछले दो दिनों से चुनाव आयोग ने आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों में सख्ती दिखाई है. चुनाव प्रचार के दौरान आचार संहित का उल्लंघन और नेताओं के भाषणों में अभद्र भाषा के इस्तेमाल पर चुनाव आयोग सख्त हो गया है. चुनाव आयोग ने पहले यूपी की पूर्व सीएम और बीएसपी सुप्रीमो मायावती और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के चुनाव प्रचार करने पर कुछ समय के लिए रोक लगा दी थी. अब बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के साथ सपा नेता आजम खान के चुनाव प्रचार करने पर भी रोक लगा दी है.

चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी पर प्रचार के दौरान सांप्रदायिक टिप्पणी पर सख्ती दिखाई है और उनके चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी है. वहीं सपा नेता और रामपुर से लोकसभा प्रत्याशी आजम खान पर बीजेपी उम्मीदवार जया प्रदा के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग करने के आरोप में सख्त कदम उठाया है. चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के चुनाव प्रचार करने पर 48 घंटे के लिए रोक लगा दी है. तो आजम खान 72 घंटे तक चुनाव प्रचार नहीं कर सकेंगे. चुनाव आयोग की ये रोक आज यानि मंगलवार सुबह 10 बजे से लागू हो जाएगी.

चुनाव आयोग ने मेनका गांधी पर उनके उस बयान के लिए रोक लगाई है जो उन्होंने सुल्तानपुर की एक रैली के दौरान दिया था. जिसमें उन्होंने मुस्लिम वोटर्स से कहा था कि अगर उन्हें कम वोट मिले तो इसका असर उनके होने वाले काम पर पड़ेगा. वहीं आजम खान ने रामपुर से जया प्रदा को लेकर अभद्र टिप्पणी की थी. उन्होंने कहा था कि जिसमें हम रामपुर लेकर आए उसका अंडरवियर खाकी रंग का निकला. आजम खान के इस बयान की काफी निंदा हुई थी. उसके बाद महिला आयोग ने भी उनके खिलाफ नोटिस जारी किया था. अब चुनाव आयोग ने उनके प्रचार करने पर रोक लगा दी.

किडनी बेचकर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव! पूर्व MLA ने चुनाव आयोग से मांगी इजाजत, नहीं हैं पैसे

First published: 16 April 2019, 8:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी