Home » Lok Sabha Elections 2019 » Election Commission seeks information and broadcasting ministry's report on launch of NaMo TV
 

मुश्किल में NaMo TV, चुनाव आयोग ने I&B मिनिस्ट्री से मांगा जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 April 2019, 13:09 IST

भारत निर्वाचन आयोग ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय को पत्र लिखकर, लोकसभा चुनाव से कुछ ही दिन पहले, नमो टीवी के अचानक लॉन्च पर रिपोर्ट मांगी है. आयोग ने दूरदर्शन को भी अलग से लिखा है कि यह पता लगाने की कोशिश की जाए कि 31 मार्च को राष्ट्रीय प्रसारक ने पीएम मोदी के सार्वजनिक संबोधन 'मैं भी चौकीदार' का एक घंटे का लाइव प्रसारण कैसे चलाया.

यह मामला कांग्रेस ने चुनाव आयोग को अपनी आधिकारिक शिकायत में उठाया था. 31 मार्च को लॉन्च किया गया कंटेंट टीवी / नमो टीवी में पीएम मोदी और उनके भाषणों के अलावा भाजपा-केंद्रित सामग्री दिखाई जा रही है.


भाजपा के सोशल मीडिया हैंडल ने ट्वीट कर दर्शकों से NaMo TV ’और NaMo ऐप को पीएम की रैलियों और भाषणों को सुनने के लिए देखने को कहा है. नमो टीवी सत्ताधारी भाजपा द्वारा आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद चैनल लॉन्च किया गया था, हालांकि इसका स्वामित्व अभी भी स्पष्ट नहीं है. कांग्रेस और AAP दोनों ने चुनाव आयोग से मामले की शिकायत की थी.

ईटी की रिपोर्ट के अनुसार सूत्रों का कहनाहै कि चुनाव आयोग ने मामले पर I & B सचिव को लिखा है. सरकार को चुनाव आयोग को यह बता सकती है कि NaMo टीवी एक अनुमति प्राप्त चैनल नहीं है, बल्कि सेवा प्रदाता द्वारा एक विज्ञापन मंच है और इसके प्रति होने वाले खर्च को पार्टी द्वारा, अपने वार्षिक खर्च और चुनाव आयोग को ऑडिट रिपोर्ट में, पार्टी द्वारा परिलक्षित किया जाएगा.

सोलर स्कैम की आरोपी सरिता नायर वायनाड से राहुल गांधी के खिलाफ लड़ेंगी चुनाव

First published: 3 April 2019, 13:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी