Home » Lok Sabha Elections 2019 » General Elections 2019: 21 Million Women Will Not Be Able To Vote
 

लोकसभा चुनाव 2019: क्यों इस बार 2.1 करोड़ महिलाएं नहीं डाल पाएंगी वोट, किसे होगा फायदा ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 March 2019, 11:16 IST

2019 का लोकसभा चुनाव एक नया रिकॉर्ड बनाने के लिए तैयार है. एक रिपोर्ट की माने तो भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब पुरुषों के मुकाबले वोट डालने वाली महलाओं की संख्या ज्यादा होगी. हालांकि बड़ी संख्या में ऐसी भी महिलाएं हैं जो इस बार वोट नहीं डाल पाएंगी. इन महिलाओं की संख्या लगभग श्रीलंका की आबादी के बराबर बराबर हैं.

2011 की जनगणना के आधार पर भारत में 2019 में 18 वर्ष से अधिक उम्र की 45.1 करोड़ होनी चाहिए. हालांकि मतदाता सूची में महिलाओं की संख्या 43 करोड़ है. इसका मतलब यह है कि मतदाता सूची में 2.1 करोड़ महिलाएं गायब हैं.

 

इसका मतलब है कि प्रत्येक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से लगभग 30,000 महिलाओं का का नाम वोटर लिस्ट में नहीं होगा. इसमें उत्तर प्रदेश में समस्या सबसे खराब है यहां प्रति निर्वाचन क्षेत्र की 85,000 महिलाएं मतदाता सूचियों से गायब हैं. औसतन, यह कुल वोट का 8 प्रतिशत है. विशेषज्ञों का कहना है कि यह सामाजिक और सांस्कृतिक रूढ़िवाद के कारण हो सकता है.

विशेषज्ञों का कहना है - दक्षिण भारत में जहां साक्षरता और मानव विकास सूचकांक उत्तर में उससे अधिक हैं, समस्या उतनी बड़ी नहीं है. लेकिन भाजपा जैसी पार्टी के लिए जो महिलाओं की तुलना में पुरुषों के बीच अधिक समर्थन की गिनती करती है, उसके लिए यह यह अंतर एक फायदा है.

BJP के इस बुजुर्ग नेता को पहले से ही था अंदाजा कि कटने वाला है उनका टिकट ?

चुनाव आयोग के सूत्रों का कहना है कि वे इस अंतर को कम करने के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं.11 अप्रैल से शुरू होने वाले सात चरणों में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान होगा, जिसके परिणाम 23 मई को घोषित किए जाएंगे.

First published: 23 March 2019, 11:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी