Home » Lok Sabha Elections 2019 » Lok Sabha elections 2019: First vote has been cast from Arunachal Pradesh
 

लोकसभा चुनाव का पहला वोट डाला जा चुका है, यहां हुआ मतदान

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 April 2019, 16:00 IST

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के सैनिकों ने शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पहली बार मतदान किया. गुप्त पोस्टल बैलेट द्वारा मतदान का पहला दौर शुक्रवार को सुबह 10 बजे अरुणाचल प्रदेश के लोहितपुर स्थित आईटीबीपी के पशु प्रशिक्षण स्कूल (एटीएस) में शुरू हुआ. देश का पहला वोट एटीएस आईटीबीपी के प्रमुख डीआईजी सुधाकर नटराजन ने डाला. लगभग 30 सैनिकों की एटीएस इकाई के अलावा, राज्य में तैनात अन्य आईटीबीपी इकाइयों ने भी पोस्टल बैलट के माध्यम से अपने वोट डाले.

सुरक्षा बलों के लगभग 5,000 कर्मियों ने मतदान किया , जिनमें से 1,000 के करीब अकेले आईटीबीपी के थे. मतदान कर्मियों को मतदान के लिए उत्तराखंड, गुजरात, बेंगलुरु, बिहार, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और कई अन्य स्थानों पर भेजा गया है. इस साल चुनाव आयोग ने चुनाव प्रक्रिया में अधिक सेवा मतदाताओं को जोड़ने के लिए कई कदम उठाए हैं.

 

इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट और अन्य मीडिया के माध्यम से जागरूकता अभियानों को उचित ध्यान दिया गया. यह संभवत: पहली बार होगा जब बड़ी संख्या में सेवा मतदाताओं की गिनती होने की उम्मीद है. रक्षा और अर्धसैनिक बलों से संबंधित सेवा मतदाता के पास या तो पोस्टल बैलेट के माध्यम से या उसके द्वारा नियुक्त एक प्रॉक्सी मतदाता के माध्यम से मतदान का विकल्प होता है.

रक्षा और अर्धसैनिक बलों सहित लगभग 30 लाख सेवा मतदाता हैं जो (पारिवारिक स्टेशनों पर परिवारों के साथ कई मामलों में) सेवा मतदाता सुविधा के माध्यम से अपना वोट डालेंगे. 17 वीं लोकसभा का गठन करने के लिए आम लोगों के लिए मतदान 11 अप्रैल से शुरू होगा और सात चरणों में 12 मई तक चलेगा. सभी सीटों के लिए मतगणना 23 मई को होगी.

निर्वाचन क्षेत्र का रिटर्निंग अधिकारी सेवा मतदाता को डाक मतपत्र भेजता है जिसमें सेवा मतदाता अपना मत रिकॉर्ड कर सकता है और कवर सील कर सकता है. मतदाता को फॉर्म 13A में घोषणा पर हस्ताक्षर करना होगा जिसके बाद यूनिट का कमांडिंग अधिकारी मतदाता के हस्ताक्षर को देखेगा जो डाक या दूत द्वारा रिटर्निंग अधिकारी को दिया जाना है.

अदालत में मिशेल बोला- सरकार के हाथों में खेल रही है ED, मैंने नहीं लिया कभी किसी का नाम

First published: 6 April 2019, 14:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी