Home » Lok Sabha Elections 2019 » Lok Sabha Elections 2019: Gujarat ex CM Shankar Singh Vaghela says Pulwama attack was BJP's conspiracy
 

कौन हैं BJP के ये पूर्व दिग्गज नेता जिन्होंने पुलवामा हमले को बताया भाजपा की साजिश

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 May 2019, 13:10 IST

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता रहे शंकर सिंह वाघेला ने पुलवामा हमले को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर बड़ा आरोप लगाया है. गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला ने कहा है कि पुलवामा आतंकी हमला बीजेपी की साजिश थी. शंकर सिंह वाघेला ने यह भी कहा कि गोधरा कांड भी बीजेपी की साजिश थी.

वाघेला ने कहा, "पुलवामा आतंकी हमले में आरडीएक्स ले जाने के लिए इस्तेमाल की गई गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर गुजरात का था. गोधरा कांड भी बीजेपी की साजिश थी." वाघेला ने मीडिया से बात करते हुए कहा, "बीजेपी चुनाव जीतने के लिए आतंकवाद का सहारा लेती आई है. पिछले 5 साल में मोदी राज मेंं तमाम आतंकी हमले हुए."

 

वाघेला ने आरोप लगाया, "बालाकोट एयरस्ट्राइक BJP की सोची-समझी साजिश थी. जिसमें कोई भी नहीं मारा गया. कोई अंतरराष्ट्रीय एजेंसी भी यह साबित नहीं कर पाई कि बालाकोट एयर स्ट्राइक में 200 लोग मारे गए."

वाघेला ने आरोप लगाते हुए कहा कि पुलवामा हमले को लेकर खुफिया सूत्रों से जानकारी मिली थी. इसके बावजूद सरकार की ओर से कोई कदम नहीं उठाया गया. उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, "अगर सरकार के पास बालाकोट को लेकर पहले से जानकारी थी तो इन आतंकी कैंप के खिलाफ पहले ही कार्रवाई क्यों नहीं की गई? सरकार क्यों इंतजार कर रही थी कि पुलवामा जैसी कोई बड़ी घटना हो?"

वाघेला ने कहा कि भाजपा का गुजरात मॉडल बिल्कुल झूठा है. गुजरात तमाम तरह की परेशानियों से गुजर रहा है. बीजेपी के नेता पार्टी से नाराज चल रहे हैं. उन्हें लग रहा है कि वो बंधुआ मजदूर हैं.

 

बता दें कि शंकर सिंह वाघेला एक जमाने में गुजरात में जनता पार्टी के उपाध्यक्ष थे. 1980 से 1991 तक वे गुजरात में भाजपा के महासचिव और अध्यक्ष रहे. वह 1984 से 1989 तक भाजपा से राज्य सभा सदस्य रहे. वाघेला ने साल 1989 में गांधीनगर लोकसभा और साल 1991 में गोधरा लोकसभा सीट बीजेपी से जीती.

साल 1995 में जब गुजरात में भारतीय जनता पार्टी ने अपने दम पर 182 में से 121 सीटें जीती तो विधायकों ने वाघेला को अपना नेता चुना था. हालांंकि बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने केशुभाई पटेल को सीएम बना दिया. इसके बाद सितंबर 1995 में वाघेला ने 47 विधायकों के समर्थन के साथ बीजेपी के खिलाफ विद्रोह कर दिया.

बाद में वाघेला के खास सुरेश मेहता को सीएम बनाया गया. साल 1996 मेंं वाघेला गोधरा सीट से लोकसभा चुनाव हार गए जिसके बाद उन्होंने भारतीय जनता पार्टी छोड़ दी. उनके भाजपा छोड़ने के कारण सुरेश मेहता की सरकार गिर गई. उन्होंने राष्ट्रीय जनता पार्टी नाम से पार्टी बनाई और अक्टूबर 1996 में कांग्रेस के समर्थन से गुजरात के सीएम बने. फिलहाल वह एनसीपी में हैं.

केजरीवाल सरकार के 70 में से 67 वादे फेल, बदतर है दिल्ली की जमीनी हकीकत- रिपोर्ट

First published: 2 May 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी