Home » Lok Sabha Elections 2019 » Sankatmokhan temple Mahant Congress can front against Modi
 

वाराणसी में मोदी के खिलाफ संकटमोचन मंदिर के महंत को मैदान में उतार सकती है कांग्रेस

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 March 2019, 11:28 IST

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में वाराणसी से पीएम मोदी को चुनौती देने के लिए दिल्ली के सीएम अरविन्द मैदान में उतर गए थे. इस बार भी विपक्ष वाराणसी से मोदी के खिलाफ रणनीति बनाने में जुट गया है. एक रिपोर्ट की माने तो कांग्रेस पार्टी पीएम मोदी के खिलाफ ऐसे उम्मीदवार की तलाश में है, जो बड़ी संख्या में हिन्दू वोटों को प्रभावित कर सके. रिपोर्ट के अनुसार पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ संकटमोचन मंदिर के महंत प्रफेसर विश्वम्भर नाथ मिश्र को उम्मीदवार बनाया जा सकता है.

माना जा रहा है कि मोदी के खिलाफ उतरने वाले कांग्रेस उम्मीदवार को समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी भी समर्थन दे सकती हैं. दरअसल इस सीट का आकर्षण इतना है कि कोई भी उम्मीदवार इस सीट से चुनाव लड़ने के लिए आसानी से तैयार हो जाता है.

कौन है विश्वम्भर नाथ मिश्र ?

विश्वम्भर नाथ मिश्र आईआईटी बीएचयू के प्रफेसर हैं और इसी कारण उनकी पहचान है. समाज के हर तबके में उनकी छवि भी अच्छी मानी जाती है. विश्वम्भर नाथ मिश्र ने गंगा की निर्मलता को लेकर बीते दिनों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया. हालांकि कांग्रेस ने भी इस पर आखिरी फैसला नहीं किया है.

इससे पहले खबर आयी थी कि तमिलनाडु के किसान वाराणसी लोकसभा क्षेत्र से 111 नामांकन दाखिल करेंगे. जहां से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव लड़ रहे हैं. तमिलनाडु के किसान नेता पी. अय्याकन्नू ने शनिवार को कहा कि राज्य के 111 किसान मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ेंगे.

अय्यकन्नु जो नेशनल साऊथ इंडियन रिवर इंटर लिंकिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष है, ने कहा कि उत्तर प्रदेश से चुनाव लड़ने का निर्णय भाजपा को अपने घोषणापत्र में उनकी मांगों को शामिल करवाना है. 2017 में 100 दिनों से अधिक समय तक दिल्ली में आंदोलन करने वाले किसान नेता ने कहा, "वे अपने घोषणापत्र में आश्वासन देते हैं कि हमारी मांगें पूरी होंगी, हम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने का अपना फैसला वापस ले लेंगे."

First published: 27 March 2019, 11:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी