Home » Lok Sabha Elections 2019 » Supreme Court censures Mamata govt over delay in release of BJP leader Priyanka Sharma
 

कौन हैं BJP नेता प्रियंका शर्मा? जिन्हें लेकर सुप्रीम कोर्ट ने ममता सरकार को जमकर फटकार लगाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 May 2019, 12:10 IST

भाजपा युवा विंग की संयोजक प्रियंका शर्मा की रिहाई को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल की ममता सरकार को जमकर फटकार लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने ममता सरकार पर तानाशाहीपूर्ण रवैया अख्तियार करने की बात कही. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा कि जब हमने उनकी रिहाई के लिए मंगलवार (14 मई) की शाम पांच बजे का वक्त निर्धारित किया था तो बुधवार की सुबह 9:40 बजे उन्हें क्यों छोड़ा गया.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहली नजर में प्रियंका शर्मा की गिरफ्तारी ही मनमानी है. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर उसे रिहा नहीं किया गया तो अवमानना का मामला शुरू करेंगे. कोर्ट ने आधे घंटे में प्रियंका को रिहा किया जाने का आदेश दिया. दरअसल, कल शाम को ही रिहाई के आदेश के बाद उन्हें सुबह 9.40 पर रिहा किया गया और वह रातभर जेल में रहीं.

सुप्रीम कोर्ट के फटकार पर पश्चिम बंगाल सरकार ने कहा कि आदेश उन्हें शाम पांच बजे मिला था लेकिन जेल मैन्यूअल के चलते रिहाई नहीं हो पाई. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा कि क्या जेल मैन्यूअल सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बड़ा है?

प्रियंका के वकील ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि पश्चिम बंगाल पुलिस ने मामले की क्लोजर रिपोर्ट दाखिल की, लेकिन इसकी जानकारी ना तो प्रियंका के परिवार को और ना ही मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट को दी. वकील ने कोर्ट को बताया कि प्रियंका को रिहा करने से पहले जबरन माफीनामा लिखवाया गया. मामले में अब सुप्रीम कोर्ट जुलाई में सुनवाई करेगा कि क्लोजर रिपोर्ट दाखिल होने के बाद माफी की जरूरत नहीं है.

 

बता दें कि प्रियंका शर्मा ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लेकर एक आपत्तिजनक मीम सोशल मीडिया पर शेयर किया था. प्रियंका पर अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा की एक तस्वीर पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का चेहरा चिपकाने और उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करने का आरोप है. प्रियंका चोपड़ा की यह तस्वीर न्यूयॉर्क के मेट गाला इवेंट के दौरान खींची गई थी.

इसके बाद तृणमूल कांग्रेस नेता विभास हाजरा की शिकायत पर हावड़ा ज़िले की दासनगर पुलिस ने प्रियंका शर्मा को गिरफ्तार कर लिया था. एक स्थानीय अदालत ने उनको 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. फिर प्रियंका शर्मा को सुप्रीम कोर्ट ने सशर्त जमानत दे दी थी. कोर्ट ने उन्‍हें तुरंत रिहा करने का आदेश दिया था.

First published: 15 May 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी