Home » Lok Sabha Elections 2019 » Tej Bahadur Yadav plea dismisses by Supreme Court against rejection of his nomination from Varanasi
 

तेज बहादुर को अब सुप्रीम कोर्ट ने भी दिया झटका, PM मोदी के खिलाफ नहीं लड़ पाएंगे चुनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 May 2019, 12:56 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ समाजवादी पार्टी से नामांकन भरने वाले तेज बहादुर यादव अब चुनाव नहीं लड़ सकते हैं. सुप्रीम कोर्ट ने भी उन्हें बड़ा झटका दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग के फैसले पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है जिसमें तेज बहादुर यादव के नामांकन को जरूरी दस्तावेज जमा नहीं करने के कारण उनके नामांकन को निरस्त कर दिया था.

दरअसल, चुनाव आयोग के निर्णय के खिलाफ तेज बहादुर यादव ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. तेज बहादुर यादव के वकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि जो दिख रहा है, मामला उससे कहीं ज्यादा है. तेज बहादुर को खाने की गुणवत्ता पर सवाल उठाने पर प्रताड़ित किया जा रहा है. जिससे वे लोग नाराज हैं.

इस पर सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि उनकी अर्जी में अदालत को कोई मेरिट नहीं दिखाई दे रही. हम एक सीमा के बाद चुनाव आयोग के फैसले में दखल नहीं दे सकते. बता दें कि साल 2016 में तेज बहादुर ने बीएसएफ में खाने की गुणवत्ता पर सवाल करते हुए एक वीडियो पोस्ट किया था. सोशल मीडिया पर पोस्ट इस वीडियो में तेज बहादुर यादव ने कहा था कि उन्हें सेना में दाल पतली मिलती है.

तेज बहादुर यादव ने पीएम मोदी से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की थी. इसके बाद वह सुर्खियों में आ गए थे. बाद में बीएसएफ ने उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया था. सेना से बर्खास्तगी के बाद से तेज बहादुर लगातार मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं. 

वर्तमान में चल रहे लोकसभा चुनाव में उन्होंने पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी से पर्चा भरा था, हालांकि चुनाव आयोग ने उनके पर्चे को अधूरी दस्तावेज को लेकर निरस्त कर दिया था. इसके खिलाफ तेज बहादुर यादव सुप्रीम कोर्ट चले गए थे.

जनसभा में सिद्धू पर फेंकी चप्पल, कांग्रेसियों ने महिला को जमकर पीटा, लगे मोदी-मोदी के नारे

First published: 9 May 2019, 12:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी