Home » मध्य प्रदेश » FCI Paper leak: FCI question paper leak in Madhya Pradesh 2 middlemen and 48 candidates arrest by STF
 

SSC, CBSE के बाद अब FCI का पेपर हुआ लीक, 2 एजेंट सहित 50 गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 14:33 IST

CBSE पेपर लीक के बाद अब फूड काॅरपोरेशन आॅफ इंडिया (FCI ) में वॉचमैन की परीक्षा का पेपर लीक होने का मामला सामने अाया है. 1 अप्रैल को एफसीआई के पेपर शुरू होने के कुछ घंटे पहले ही कुछ छात्रों के द्वारा उसे सॉल्व करने पर मामले का पर्दाफाश हुआ.

एफसीआई के 217 वॉचमैन/ चौकीदार के पदों के लिए मध्य प्रदेश के विभिन्न शहरों में 132 सेंटरों पर परीक्षा आयोजित की गई थी. पेपर लीक की भनक राज्य के STF को लग गई और एसटीएफ ने पेपर शुरू होने के 90 मिनट पहले एफसीआई के अधिकारियों को पेपर लीक होने की सूचना दी.

इसके बाद मध्य प्रदेश की स्टेट टास्क फोर्स ने ग्वालियर के सिद्धार्थ पैलेस होटल से 2 एजेंट और 48 परीक्षार्थियों को पेपर सॉल्व करते हुए पकड़ लिया. यहां एजेंट होटल के कमरे में कैंडिडेट्स को पेपर सॉल्व करा रहे थे. एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार दिल्ली निवासी एजेंट आशुतोष और हरीश ने पुलिस के पूछताछ में बताया कि उन्हें पेपर दिल्ली में रहने वाले किशोर कुमार ने मुहैया कराया और वही इसका मास्टरमाइंड है.

ये भी पढ़ें -CBSE पेपर लीक : विसलब्लोअर का दावा, पॉलिटिकल साइंस का पेपर भी हुआ था लीक

एसटीएफ ने जिन 48 स्टूडेंट काे पकड़ा है उनमें से 35 बिहार, 13 उत्तरप्रदेश और कुछ हरियाणा के हैं. कैंडिडेट्स ने बताया कि उनसे 5-5 लाख रुपए में सौदा हुआ था. 50-50 हजार रुपए एडवांस लिए गए थे, और बाकी नौकरी लगने के बाद देना तय था. इसके साथ ही कैंडिडेट्स के ऑरिजनल डॉक्यूमेंट जैसे मार्कशीट, आधार कार्ड आदि भी एजेंट ने अपने पास रख लिए थे.

गिरफ्तार एजेंट्स के अनुसार, उनका काम कैंडिडेट्स को एक जगह करके पेपर सॉल्व कराना था. इसके बदले उन्हें 30-30 हजार रुपए मिले थे. पेपर सॉल्व कराने के बाद सभी स्टूडेंट्स के मोबाइल फोन अपने कब्जे में लेकर उन्हें पेपर देने भोपाल भेजना था. पेपर देने के बाद छात्रों के मोबाइल फोन वापस किए जाते थे.

First published: 2 April 2018, 14:33 IST
 
अगली कहानी