Home » मध्य प्रदेश » Madhya Pradesh: CM Shivraj Singh Chauhan become teacher in school mil banche programme
 

'मामा शिवराज सिंह चौहान' ने टीचर बनकर बच्चों की ली जमकर क्लास

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 September 2018, 10:47 IST

Mil Baachen MP: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और मामा के नाम से आम जममानष में प्रसिद्ध शिवराज सिंह चौहान स्कूली छात्रों के लिए 'टीचर' बन गए. राज्य में मिल बांचे कार्यक्रम के मौके पर उन्होंने सिहोर ज़िले के लाड़कुई गांव के स्कूल पहुंचकर बच्चों को पढ़ाया.

इस कार्यक्रम के दौरान शिवराज सिंह ने कहा कि अभिभावक अपने बच्चों की रूचि को समझें और उसी के हिसाब से उन्हें आगे बढ़ने दें. सीएम ने कहा कि बच्चों पर ज़रूरत से ज़्यादा पढ़ाई का दबाव ना डालें.

 

इसके अलावा सीएम ने छात्रों से बात करते हुए कहा कि वो अपना आत्मविश्वास बिल्कुल भी डिगने ना दें और नंबर कम आने पर घबराए नहीं. पढ़ाई के कारण बढ़ते कॉम्पिटिशन और तनाव को ध्यान में रखते हुए शिवराज सिंह ने छात्रों से कहा कि पढ़ाई लिखाई में छोटी-मोटी असफलताएं आती हैं लेकिन इससे छात्रों को घबराना नहीं बल्कि इस डर पर काबू पाना है.

पढ़ें- जम्मू-कश्मीर के नए राज्यपाल सत्यपाल मलिक को BJP ने बताया 'अपना बंदा', राजनाथ सिंह ने दी सफाई

उन्होंने कहा कि किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए प्रयास करना बेहद ज़रूरी है, जैसे निशाना लगाते समय अर्जुन को मछली की सिर्फ आंख दिखी थी.

 

बता दें कि मिल बांचे कार्यक्रम के तहत प्रदेश की पुलिस के मुखिया डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला भोपाल के तुलसी नगर के स्कूल में छात्रों को पढ़ाने पहुंचे. वहीं भोपाल कलेक्टर सुदामा खड़े, भोपाल के सांसद आलोक संजर समेत शिवराज सरकार के सभी मंत्री और शासकीय अधिकारी अपने-अपने जिलों के स्कूलों में छात्रों के बीच पहुंचे और उन्हें पढ़ाया.

ये है मिल बांचे कार्यक्रम
इस कार्यक्रम के तहत कोई भी जनप्रतिनिधि या इच्छुक व्यक्ति स्कूली छात्रों को बतौर वॉलंटियर स्कूल में जाकर पढ़ा सकता है. वह स्कूली बच्चों को सवाल-जवाब, ग्रुप डिस्कशन या फिर उनकी पढ़ाई से संबंधित चीज़ों के बारे में जागरुक कर सकता है.

First published: 1 September 2018, 10:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी