Home » मध्य प्रदेश » Madhya Pradesh Political Crisis: 20 Ministers resigned to save Kamal Nath Govt Jyotiraditya Scinddia to Join BJP
 

मध्यप्रदेश: संकट में कमलनाथ सरकार, 20 मंत्रियों का इस्तीफा, बीजेपी में शामिल होंगे ज्योतिरादित्य!

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 March 2020, 9:38 IST

Madhya Pradesh Political Crisis: मध्य प्रदेश में सियासी घमासान (Political Crisis) मचा हुआ है. जिसके चलते कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) के सामने संकट के बाद मंडराने लगे हैं. ऐसे वक्त में किसी तरह से कमलनाथ सरकार को बचाने की कोशिशें तेज हो गई हैं. सरकार को संकट से बाहर निकालने के लिए मध्यप्रदेश कैबिनेट (Madhya Pradesh Cabinet) के 20 मंत्रियों ने सीएम कमलनाथ को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. जिससे कमलनाथ से नाराज चल रहे विधायकों को मंत्रिमंडल में जगह देकर मनाया जा सके. तेजी से बदल से मध्यप्रदेश के राजनीतिक घटनाक्रम के बीच नाराज चल रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया के खेमे के 17 विधायक बेंगलूरू चले गए थे. उसके बाद कमलनाथ ने दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की.

एक वरिष्ठ मंत्री के मुताबिक, बेंगलूरू गए सभी विधायकों ने मोबाइल भी बंद कर लिए. उधर, सोमवार देर रात कमलनाथ मंत्रिमंडल की बैठक में सिंधिया खेमे के छह मंत्री नहीं पहुंचे और ना ही अपना इस्तीफा दिया. इससे पहले ही कमलनाथ अपना दिल्ली दौरा बीच में ही छोड़कर भोपाल पहुंच गए. इसी बीच बताया जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया आज बीजेपी मेें शामिल हो सकते हैं. उन्होंने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर इस अंदेशे को और मजबूती दे दी है. 

बताया जा रहा है कि सोमवार को सिंधिया ने पीएम मोदी से मुलाकात की थी. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी में शामिल करने की योजना पर काम किया जा रहा है. इसका अंदाजा इस बात भी लगाया जा सकता है कि बीजेपी आश्वस्त है कि 48 घंटे के अंदर कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ जाएगी. बीजेपी सूत्रों का ये भी कहना है कि कांग्रेस के बागी विधायक विधानसभा अध्यक्ष को अपने इस्तीफे भेज सकते हैं. ऐसे विधायकों की संख्या 20 हो सकती है. यानी अगर ऐसा होता है तो कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ जाएगी और इसके बाद शिवराज सिंह चौहान सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं.

बता दें कि मध्य प्रदेश में विधानसभा की 230 सीटें हैं. यहां 2 विधायकों का निधन हो गया है. इस तरह से विधानसभा की मौजूदा शक्ति 228 हो गई है. कांग्रेस के पास 114 विधायक हैं. जबकि सरकार बनाने का जादुई आंकड़ा 115 है. कांग्रेस को 4 निर्दलीय, 2 बहुजन समाज पार्टी और एक समाजवादी पार्टी विधायक का समर्थन हासिल है. इस तरह कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन है. जबकि बीजेपी के पास 107 विधायक हैं. लेकिन कहा जा रहा है अगर सिंधिया खेमे के करीब 20 विधायक अपना इस्तीफा दे देते हैं तो बीजेपी आसानी से जादुई आंकड़ा हासिल कर सरकार बनाने की स्थिति में आ सकती है.

मध्यप्रदेश के सियासी संकट के बीच जानिए क्या हैै राज्य में सरकार बनाने का गणित

भारत में तेजी से पैर पसार रहा कोरोना वायरस, अब बंगलूरू में मिला एक पॉजिटिव, दुनिया के 110 में फैला संक्रमण

First published: 10 March 2020, 9:38 IST
 
अगली कहानी