Home » मध्य प्रदेश » Madhya Pradesh: Sacks of chickpea kept in the open at a procurement centre in Damoh in spite of rain
 

मध्य प्रदेश : 20 मिनट की बारिश में बर्बाद हो गया 50 हजार क्विंटल चना

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2018, 12:05 IST
(ANI)

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार एक तरफ खुद को किसानों की सरकार बताने का दावा करती है. दूसरी तरफ किसानों की हालत क्या है. ये बात किसी से छुपी नहीं है. मंडियों में किसानों के अनाज को रखने की कैसी व्यवस्था है इसकी पोल दमोह अनाज मंडी ने खोल दी है.

दमोह कृषि उपज मंडी में बारिश के चलते करीब 50 हजार बोरियां भींग गई तो वहीं हटा कृषि उपज मंडी में करीब एक लाख क्विंटल से अधिक चना की बोरियां बारिश में लथपथ हो गई. हालांकि किसानों ने अपनी फसल को बचाने के लिए त्रिपाल ढालकर बचाने का प्रयास भी किया, लेकिन ढेरी में फैले चना को बारिश से बचाने में असफल रहे हैं. वहीं इसको लेकर प्रशासन ज्यादा नुकसान नहीं होने की बात कर रहा है.

जानकारी के अनुसार, मध्यप्रदेश के हटा और दमोह में गुरुवार को दो बार बारिश ने दस्तक दी. जिसके चलते हटा और दमोह में कृषि उपज मंडी में चना बारिश में भीग गया. बोरियों में भरा चना पानी में लथपथ हो गया तो वहीं ढेरी में फैला चना पानी में बहता रहा. दोनों जगह करीब डेढ़ लाख क्विंटल चना को नुकसान पहुचने की संभावना जताई जा रही है.

खुले में पड़ा चना के खराब होने की संभावना जताई जा रही है. इसके साथ ही बोरियों में रखे चने में भी नाजुक जिंस होने से इसके खराब होने की संभावना जताई जा रही है. एक बार फिर से प्रशासन का सुस्त रवैया ने अनाज को बारिश की भेंट चढ़ा दिया.

वहीं चने के बारिश में भीगने को लेकर अधिकारियों का कहना है कि बारिश से ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है. बारिश के दौरान मंडी में रखे चना पर प्लास्टिक कवर डाल दिया गया था. लेकिन तेज बारिश और हवा चलने की वजह से कवर उनके ऊपर से हट गया. जिसकी वजह से चने में पानी चला गया.

 

ANI

आपको बता दें कि अभी भी राज्य की मंडियों में 25 लाख क्विंटल अनाज खुले में पड़ा हुआ है. अभी चना की खरीदारी जारी है. वहीं परिवहन की सुस्त रफ्तार से स्थिति के बिगड़ने की संभावना

 

First published: 8 June 2018, 12:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी