Home » मध्य प्रदेश » Migrant woman delivered a child on the way during go back satna to nashik amid lockdown
 

घर लौट रही महिला ने रास्ते में दिया बच्चे को जन्म, मासूम को गोद में लेकर पैदल ही तय किया 150 किमी का सफर

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 May 2020, 9:12 IST

Migrant woman delivered a child on the way: सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान प्रवासी मजूदरों (Migrant Labourers) का अपने घर वापस जाने का सिलसिला जारी है. ऐसे में लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर वाहन न होने की वजह से पैदल ही सफर करने को मजबूर है. इस सफर में देश के कई हिस्सों से मजदूरों के सड़क हादसों में मरने की भी खबरे आ रही हैं. पलायन करते इन मजदूरों का दुख दर्द समझने वाला कोई नहीं है.

ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में सामने आया है. जहां अपने घर वापस लौट रही एक प्रेग्नेंट महिला (Pregnant Woman) मजदूर ने रास्ते में ही एक बच्चे को जन्म दिया. उसके कुछ घंटे बाद ही इस महिला ने अपने मासूम बच्चे को गोद में लेकर पैदल ही 150 किलोमीटर का सफर तय किया. दरअसल, एक महिला मजदूर जो नौ महीने की प्रेग्नेंट थी लॉकडाउन के इस दौर में अन्य मजदूरों की तरह ही अपने घर लौट रही थी. इस महिला ने अपने परिवार के साथ महाराष्ट्र के नासिक से पैदल ही मध्य प्रदेश के सतना में अपने घर चलने का फैसला लिया.


कोरोना से पीड़ित सेना के जवान ने की आत्महत्या, बेस अस्पताल के पीछे पेड़ से लटक लगा ली फांसी

काफी समय तक पैदल चलने के बाद महिला को प्रसव पीड़ा होने लगी और कुछ देर बाद ही महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया. सबसे हैरान करने वाली बात तो ये है कि बच्चे के जन्म के मात्र दो घंटे बाद ही उसके अपना बचा हुआ सफर शुरु कर दिया और करीब 150 किलोमीटर पैदल ही अपने घर पहुंच गई. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, महाराष्ट्र के नासिक से सतना के अपने गांव वापस जा रही एक प्रेग्नेंट प्रवासी महिला ने रास्ते में एक बच्चे को जन्म दिया. उनके पति का कहना है कि बच्चे के जन्म होने के बाद हमने 2 घंटे आराम किया और फिर हम कम से कम 150 किमी तक का सफर तय किया. 

Coronavirus: 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज अमेरिका के बाद सबसे बड़ा, जानिये पूरी डिटेल

लॉकडाउन: अब शराब के लिए नहीं लगानी होगी लाइन, इस राज्य सरकार ने होम डिलीवरी के दिए आदेश

लॉकडाउन के दौरान ये कोई पहली घटना नहीं है इससे पहले एक महिला मजदूर चंडीगढ़ से मध्य प्रदेश के लिए पैदल जा रही थी, तभी करीब 180 किमी पैदल चलने के बाद महिला को प्रसव पीड़ा होने लगी. उसके बाद महिला ने सड़क किनारे ही एक बच्ची को जन्म दिया. जन्म के एक घंटे बाद ही बच्ची को गोद में लेकर इस महिला ने 270 किलोमीटर पैदल चलकर अलीगढ़ तक का सफर तय किया. उसके बाद वहां कुछ देर आराम किया और करीब 1100 किलोमीटर दूर मध्य प्रदेश में अपने घर का सफर शुरु कर दिया.

COVID-19: दुनियाभर में मरने वालों का आंकड़ा 2.92 लाख के पार, भारत में 2400 से ज्यादा की मौत

First published: 13 May 2020, 9:12 IST
 
अगली कहानी