Home » मध्य प्रदेश » mp-Denied hearse van,family carried deceased's body by tying it to bamboo pole in Sidhi
 

मजबूरी: एंबुलेंस न मिलने पर बांस की लकड़ी के सहारे शव ले गया परिवार

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 April 2017, 15:54 IST

मध्य प्रदेश के सीधी ज़िले से मानवता को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है. यहां एक परिवार के लोगों को शव को बांस के डंडों में बांधकर ले जाना पड़ा, क्योंकि नगरपालिका के एक अस्पताल ने एंबुलेंस सेवा देने से इनकार कर दिया. अस्पताल प्रशासन का कहना था कि एंबुलेंस का ड्राइवर अभी मौजूद नहीं है. परिवार वालों के गाडी़ करने के लिए पैसे नहीं थे तो वो बांस के डंडों के सहारे ही मृतक को ले गए. 

 

ये मामला सीधी जिले के कोतवाली क्षेत्र का है. महेश कौल नामक व्यक्ति की शुक्रवार को आकस्मिक मौत हो गई. पोस्टमार्टम कराने के लिए मृतक के परिवार वालों को जब एंबुलेंस की सुविधा अस्पताल की तरफ से नहीं मिली, तब वो मजबूरी में शव को बांस-बल्ले के सहारे अर्जुन नगर से शवगृह बाजार के रास्ते ले गए.

पिछले साल सीधी जिले के ही बहरी तहसील निवासी उर्मिला यादव को तबीयत बिगड़ने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी. महिला की मृत्यु के बाद परिजन उसके शव को वापस घर ले जाने की तैयारी करने लगे, लेकिन उन्हें पता चला कि अस्पताल में उनके लिए शव वाहन उपलब्ध ही नहीं है. ऐसे में मजबूरन परिवार ने उर्मिला के शव को कपड़े में लपेटा और उसे बांस के डंडे पर बांधते हुए अपने कंधों पर उठा लिया.

First published: 22 April 2017, 15:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी