Home » मध्य प्रदेश » Note ban: Bjp leader told that due to this decision i will die
 

नोटबंदी: बीजेपी के नेता ने कहा, इस फैसले के कारण मेरी जान भी जा सकती है

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 November 2016, 15:12 IST
(एजेंसी)

नोटबंदी का फैसला अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पार्टी भारतीय जनता पार्टी की नेताओं को ही भारी पड़ रहा है.

मोदी सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपये के नोटों पर बैन लगाए जाने से मध्य प्रदेश के बीजेपी के नेता को भी फजीहत उठानी पड़ रही है.

दरअसल एमपी बीजेपी के एक नेता ने अपना लीवर ट्रांसप्लांट कराने के लिए 11 लाख रुपए जुटाये थे, लेकिन नोएडा के एक प्राइवेट अस्पताल ने इन नोटों को लेने से मना कर दिया है.

बताया जा रहा है कि बीजेपी नेता ने पुराने नोट अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से उधार लिये थे ताकि अपना लीवर ट्रांसप्लांट करा सकें.

एमपी के टीकमगढ़ जिले के लिधोरा के बाजेपी अध्यक्ष हरि किशन गुप्ता ने कहा कि वह अपनी पार्टी के फैसले के चलते मर सकते हैं.

उन्होंने बताया कि अगर अगले पांच दिन में उनका ट्रांसप्लांट नहीं हुआ तो वह मर भी सकते हैं. गुप्ता के मुताबिक नोएडा के जेपी अस्पताल ने लिवर ट्रांसप्लांट के लिए 19 लाख रुपये की मांग की थी.

बीते 13 नवंबर को उनका ऑपरेशन होना था, लेकिन अस्पताल प्रशासन ने पुराने नोटों को लेने से मना कर दिया है.

अंग्रेजी समाचार पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक गुप्ता के परिवार ने बताया कि लिवर फेल होने के बाद से वह पिछले 5 महीनों से बिस्तर पर हैं. उनका बेटा समोसे और चाय की एक छोटी से दुकान चलाता है.

उनके बेटे अमित गुप्ता ने कहा कि नोटबंदी हमारे लिए झटके के समान थी, हमारे पास कैश में पैसे थे, जिसे हमने रिश्तेदारों और दोस्तों से उधार लेकर किया था.

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के टीवी पर भाषण देने के बाद हमने स्थानीय बीजेपी नेताओं टीकमगढ़ के बीजेपी सांसद वीरेंद्र खटिक और टीकमगढ़ से बीजेपी एमएलए केके श्रीवास्तव से मदद मांगी थी, लेकिन किसी ने मदद का भरोसा नहीं दिया.

गुप्ता के भाई हरि मोहन ने बताया कि किस्मत से मेा लिवर भाई से मैच हो गया है और वह अपना लिवर देना चाहते हैं, लेकिन पुराने नोटों की समस्या ने सब कुछ बर्बाद कर दिया है.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात 8 बजे राष्ट्र को संबोधित करते हुए 500 और 1000 रुपये के नोटों को रात 12 बजे के बाद से बंद करने का ऐलान किया था.

First published: 20 November 2016, 15:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी