Home » मध्य प्रदेश » rs 3000 crore e tender scam after Vyapam scam in Madhya Pradesh just before assembly election in this year
 

मध्यप्रदेश ई-टेंडर घोटाला: व्यापम के बाद विधानसभा चुनाव से ठीक पहले 3000 करोड़ का महाघोटाला!

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 September 2018, 13:03 IST

मध्यप्रदेश में व्यापम घोटाले के बाद शिवराज सरकार में एक और घोटाला सामने आया है. शिवराज सिंह चौहान के लिए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले ये घोटाला गले की फांस बन सकता है. इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक एमपी में  ई-टेंडर प्रक्रिया में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है. ये गड़बडी ऑनलाइन टेंडर देने की प्रक्रिया में की गई है. 

ई-टेंडर की प्रक्रिया में कुछ प्राइवेट कंपनियों को सीधे तौर पर लाभ पहुंचाने की बातें सामने आई है. ईटी की जांच में पता चला है कि मध्यप्रदेश जल निगम ई-टेडर के लिए आंतरिक तौर पर इनक्रिप्टेड डॉक्यूमेंट में बदलाव किया गया. जांच में पता चला है कि प्राइवेट कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए ये फेरबदल किए गए.

 

 

गौरतलब है कि इसके ऑनलाइन कॉन्ट्रैक्ट इस साल मार्च में खोले गए थे. इसके बाद इस नीलामी में हिस्सा लेने वाली एक बड़ी टेक्नोलॉजी और इंजीनियरिंग कंस्ट्रक्शन कंपनी ने भी ई-टेंडर प्रक्रिया पर ऐतराज जताया था. MPJNL के एक वरिष्ठ अधिकारी ने स्टेट इलेक्ट्रॉनिक्स डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन से मदद मांगी थी कि कैसे सुरक्षित इंफ्रास्ट्रक्चर में सेंध लगी.

MPSEDC के एमडी मनीष रस्तोगी ने इस मामले की आंतरिक जांच की. जांच में रस्तोगी ने पाया कि राजगढ़ और सतना जिले में ग्रामीण पानी की सप्लाई स्कीम के 3 कॉन्ट्रैक्ट में फेरबदल कर हैदराबाद की 2 कंपनियों और मुंबई की 1 कपनी को सबसे कम बोली लगाने वाला बनाया गया.

 

नीलामी की रकम का था पता

रिपोर्ट के मुताबिक कुछ बोली लगाने वालों को अवैध तरीके से मालूम करा लिया था कि ई-टेंडरिंग में सबसे कम बोली क्या है और किसने लगाई है. इन 3 प्रोजेक्ट के लिए कॉन्ट्रैक्ट की रकम 2,322 करोड़ रुपए थी. इसी तरह PWD के 6 कॉन्ट्रैक्ट, जल संसाधन विभाग, एमपी रोड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन की ई-बोली में भी गड़बड़ी के मामले सामने आए हैं. 

ईटी की खबर के मुताबिक सूत्रों ने जानकारी दी है कि MPSEDC के टेंडरिंग से जुड़ा 9 टीबी का डेटा जब्त कर लिया गया है. दूसरी तरफ टीसीएस ने एक बयान में अपने किसी कर्मचारी के इस घोटाले में शामिल होने से इंकार किया है. एंतरिस ने कारण बताओ नोटिस का जवाब देते हुए लिखा है कि गड़बड़ी एप्लीकेशन में नहीं बल्कि बाहर से हुई है.

First published: 6 September 2018, 12:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी