Home » मध्य प्रदेश » Digvijaya Singh on SIMI activists Jailbreak: Why do only Muslims break out of jail and not Hindus
 

दिग्विजय बोले- हर जेल तोड़ने वाला मुस्लिम क्यों, शिवराज का पलटवार- दिखाई नहीं देता बलिदान

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 November 2016, 12:53 IST
(एएनआई)

भोपाल में सिमी के आठ कार्यकर्ताओं के एनकाउंटर पर मचा सियासी घमासान तेज होता जा रहा है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर इस एनकाउंटर को लेकर सवाल खड़े किए हैं.

सोमवार को दिग्विजय सिंह ने इस एनकाउंटर की न्यायिक जांच कराने की मांग की थी. दिग्विजय सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए सवालिया लहजे में कहा, "केवल मुस्लिम ही जेल तोड़कर क्यों फरार होते हैं, हिंदू नहीं?"

'मुस्लिम ही क्यों हिंदू क्यों नहीं?'

दिग्विजय सिंह इससे पहले दिल्ली में हुए बटला हाउस एनकाउंटर को लेकर सवाल उठा चुके हैं. भोपाल में सोमवार को सिमी कार्यकर्ताओं के भोपाल में एनकाउंटर के बाद दिग्विजय ने ट्विटर पर इसकी विश्वसनीयता को लेकर सवाल खड़े किए थे.

कांग्रेस महासचिव ने कहा, "अदालत की निगरानी में इस मामले की एनआईए जांच होनी चाहिए. इसके साथ ही इस बात की भी जांच होनी चाहिए कि केवल मुस्लिम ही क्यों जेल तोड़कर फरार होते हैं. आखिर समस्या क्या है?" 

वोटबैंक सियासत का आरोप

इस बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विपक्ष पर वोटबैंक पॉलिटिक्स का आरोप लगाया है. दिग्विजय के बयान पर शिवराज ने पलटवार करते हुए कहा, "ऐसे बयानों पर पीड़ा होती है. हमारे देश के कुछ नेता जिनको शहीदों की शहादत दिखाई नहीं देती उनको रमाशंकर का बलिदान दिखाई नहीं देता."

दिग्विजय पर इशारों में हमला करते हुए मध्य प्रदेश के सीएम ने आगे कहा, "कुछ लोग इस मामले पर वोटबैंक पॉलिटिक्स कर रहे हैं, जोकि बेहद निंदनीय है. ऐसे बयान देने से बचना चाहिए."

एनकाउंटर में 8 सिमी कार्यकर्ता मारे गए थे

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने भी इस एनकाउंटर पर सवाल उठाने वालों की आलोचना की है. रिजिजू ने कहा, "हमें संदेह उठाने, व्यवस्था और पुलिस पर सवाल करने की आदत पर रोक लगानी चाहिए. तथ्य जल्द सामने आएंगे."

सोमवार को भोपाल से करीब दस किलोमीटर दूर सिमी के आठ कार्यकर्ताओं को मुठभेड़ में मार गिराने का पुलिस ने दावा किया. सिमी से जुड़े सभी अंडरट्रायल कैदी थे, जिन पर देशद्रोह के साथ हत्या के मामले चल रहे थे. भोपाल सेंट्रल जेल से फरार होने से पहले सिमी के संदिग्ध आतंकियों ने जेल के मुख्य आरक्षी रामशंकर यादव की हत्या कर दी थी.

'कांग्रेस के लोग ही संदेह जताते हैं'

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह का भी इस मामले पर बयान सामने आया है. समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में भूपेंद्र सिंह ने कहा, "जब कभी आतंकी किसी मुठभेड़ में मारे जाते हैं. हमारे देश में कुछ लोग हैं जो संदेह जताते हैं खासकर कांग्रेस के लोग."

एमपी के गृहमंत्री ने आगे कहा, "अब किसी जांच की जरूरत नहीं है. पुलिस ने सारी जानकारी मुहैया करा दी है. एनआईए केवल सिमी सदस्यों के कनेक्शन की जांच करेगी."

First published: 1 November 2016, 12:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी