Home » मध्य प्रदेश » Student Says Mamaji Please Don’t Bring Caste into Education in Programme to MP CM Shivraj Singh Chouhan
 

शिवराज चौहान से छात्र ने कहा- 'मामा जी' शिक्षा के बीच में जाति मत लाइए

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 May 2018, 10:44 IST

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उस वक्त थोड़ा परेशान हो गए, जब छात्रों ने उनसे शिक्षा में आरक्षण से जुड़े सवाल पूछते हुए कहा कि मामा जी पढ़ाई में जाति मत देखिए. इससे जनरल कैटेगरी के विद्यार्थियों को नुकसान हो रहा है. छात्रों ने कहा कि ऐसा करने से उन्हें योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा और ना ही लैपटॉप.

दरअसल, राजधानी भोपाल में पीएम शिवराज सिंह चौहान 'लाइव फोन इन' प्रोग्राम में स्कूली छात्र-छात्राओं से रूबरू हुए. भोपाल के मॉडल स्कूल ऑडिटॉरियम में मौजूद तमाम छात्रों ने सीएम शिवराज सिंह से सवाल जवाब किए. इस दौरान छात्रों ने सीएम से प्रश्न पूछा कि जाति के आधार पर छात्रों को लैपटॉप क्यों बांटे जा रहे हैं?

कार्यक्रम के दौरान एक छात्र ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कहा, "मामा जी प्लीज जाति को शिक्षा में ना लाएं.” उस छात्र ने शिकायती लहजे में आगे कहा, "मेरा एक दोस्त आरक्षित वर्ग से आता हैउसे लैपटॉप मिलेगाजबकि उसके नंबर मुझसे तीन फीसदी कम हैं."

उसके बाद कई छात्रों ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को 'मामाजी' संबोधित करके ही सवाल किए. छात्रों ने कहा कि उन्हें लैपटॉप क्यों मिल रहा है, जबकि हमने भी उसी के बराबर पढ़ाई में मेहनत की और अपने दोस्त से तीन फीसदी नंबर अधिक लाए. बावजूद इसके उसे लैपटॉप मिल रहा है और हमें नहीं. छात्रों ने कहा कि सभी को समानता का अधिकार मिलना चाहिए.

उसके बाद कई और छात्रों ने भी इसी तरह के सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि आरक्षित वर्ग के स्टूडेंट्स को ही ऐसी सुविधाओं का लाभ क्यों मिलता है. जो छात्रों के लिए चलाई जाती है. जिसमें लैपटॉप वितरण भी शामिल है. जनरल कैटेगरी के छात्रों का स्कोर ज्यादा होने के बावजूद उन्हें उसका लाभ नहीं मिलता.

छात्रों के ऐसे सवाल पूछने पर सीएम चौहान कुछ परेशान से हो गए. हालांकि उन्होंने छात्रों को समझाते हुए कहा कि वर्षों तक जो लोग पीछे रह गए, अगर उन्हें कुछ दिया जा रहा है तो उसे स्वीकार किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि मेधावी विद्यार्थी योजना में फीस माफी और लैपटॉप देने की योजना हर विद्यार्थी के लिए है. थोड़ा विशाल और विराट हृदय रखो और बड़ा सोचो.

ये भी पढ़ें- क्यों PM मोदी के लिए 2019 का रास्ता पेट्रोल पंप से होकर गुजरता है ? 

First published: 22 May 2018, 10:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी