Home » मध्य प्रदेश » This doctor living in car who treating COVID-19 Positive Patient in Bhopal
 

कोरोना पीड़ितों का इलाज कर रहे इस डॉक्टर ने कार को बनाया घर, सीएम शिवराज ने की तारीफ

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2020, 16:31 IST

Corona Virus Updates: डॉक्टर (Doctor) को पृथ्वी (Earth) पर भगवान (God) का रूप माना जाता है. कोरोना वायरस (Corona Virus) से जूझ रही पूरी दुनिया आज इन डॉक्टर्स को सलाम (Salute) कर रही है और उन्हें भगवान से भी कहीं बढ़ कर मान रही है. ये सब उन डॉक्टर्स की लगन, मेहनत और सेवाभाव की बहुत कम कीमत है जो वो इस जानलेवा बीमारी के बीच हम-सबकी की कर रहे हैं. कोरोना पीड़ितों का इलाज कर रहे डॉक्टर्स कई-कई दिनों तक घर नहीं जा पा रहे और कुछ डॉक्टर घर इसलिए भी नहीं जा रहे क्योंकि उन्हें अपने परिवार को भी कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाना है.

इसके लिए वो अलग-अलग तरीके अपना रहे हैं. ऐसी ही एक कहानी भोपाल से सामने आई है. जहां कोरोना पीड़ितों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने कार को ही अपना घर बना लिया है. जिससे जरूरत पड़ने पर वो तुरंत अस्पताल में हाजिर हो जाएं. मध्यप्रदेश की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस डॉक्टर की डॉक्टर की तारीख की है.


दरअसल, भोपाल के जेपी हॉस्पिटल के डॉक्टर सचिन नायक इन दिनों मरीजों के इलाज के बाद अपने घर नहीं जाते. उन्हें परिवार के साथ समय बिताने का वक्त ही नहीं मिल रहा है. परिवार को संक्रमण से बचाने के लिए उन्होंने अपनी कार को ही ठिकाना बना लिया है. ड्यूटी खत्म करने के बाद वे कार में ही सो जाते हैं. यही नहीं जरूरत का सभी सामान भी उन्होंने अपनी कार में रख लिया है. अगर समय मिलता है तो कार में किताब भी पढ़ लेते हैं और फिर कार में ही किसी तरह सो भी जाते हैं.

इससे पहले भी भोपाल के ही एक डॉक्टर की कहानी सामने आई थी, जो कई दिनों बाद अपने घर पहुंचा, लेकिन परिवार को कोविड-19 के संक्रमण से बचाने के लिए घर के बाहर ही बैठकर चाय पी और वापस अस्पताल आ गया. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कार में सोने वाले डॉक्टर सचिन नायक और उनके जैसे सभी कोरोना वारियर्स की तारीफ की है. शिवराज ने ट्वीट किया, "आप जैसे कोविड-19 के खिलाफ युद्ध लड़ रहे योद्धाओं का मैं और संपूर्ण मध्य प्रदेश अभिनन्दन करता है. इसी संकल्प के साथ हम सब निरंतर आगे बढ़ें, तो यह महायुद्ध और जल्द जीत लेंगे. सचिन जी आपके जज्बे को सलाम."

बता दें कि देशभर में कोरोना पीड़ितों की तादात बढ़ती जा रही है. पूरे देश में अब तक साढ़े चार हजार से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. कोरोना वायरस के खिलाफ इस जंग में सबसे बड़ी चुनौती डॉक्टरों के सामने ही है. वह दिनरात रात मरीजों की सेवा में जुटे हुए हैं. पिछले कई दिनों से ये डॉक्टर घर से भी दूर हैं. घर जाने पर इन्हें संक्रमण परिवार तक पहुंचने का डर है. बावजूद इसके देश के कई हिस्सों से डॉक्टर्स के साथ बदसलूकी करने की खबरें भी आ रही है. जो बेहद गलत हैं ऐसे समय में हमें जिंदगी देने वाले डॉक्टर की हम तारीफ न करें तो कोई बात नहीं, लेकिन उनके साथ बदसलूकी करना इंसानियत और मानवता के खिलाफ है.

Lockdown: मोदी सरकार बढ़ा सकती है लॉकडाउन, राज्य सरकारें और विशेषज्ञ कर रहे हैं मांग

Video : दिल्ली के जय प्रकाश नारायण अस्पताल में 82 साल के बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात

Lockdown: क्या 14 अप्रैल के बाद हटेगा लॉकडाउन, जानिए किस राज्य ने क्या कहा

First published: 7 April 2020, 16:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी