Home » मध्य प्रदेश » Villagers drink unclean water from a deep well by filtering it with clothes in Chhatarpur madhya pradesh
 

शिवराज सरकार में गंदा पानी पीकर प्यास बुझा रहा है ये गांव

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 April 2018, 18:01 IST
(ANI)

मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड में गर्मी की शुरूआत होने के साथ ही पीने के पानी का संकट गहरा जाता है. लोग बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं. हालात ये हैं कि लोगों को पीने के पानी के लिए अपनी जान को जोखिम में डालना पड़ रहा है.

इसके बाद भी उनको पीने का साफ पानी नसीब नहीं हो रहा है. प्यास बुझाने के लिए बूंद-बूंद पानी के लिए जद्दोजहद जारी है. लोग गंदे पानी को कपड़े से छानकर अपनी प्यास बुझा रहे हैं. लेकिन प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है. छत्तरपुर जिले के राजनगर जनपद पंचायत झमटुली गांव में पीने के पानी की समस्या शुरू हो गई है. गांव में पिछले बीस साल से नलजल योजना ठप है. गांव के अंदर केवल एक ही तालाब है. जिसमें भी गहराई में गंदा पानी है

गांव वालों का कहना है कि पिछले बीस साल से गांव में नलजल योजना ठप पड़ी है. पानी की समस्या से परेशान हैं. ग्रामीणों का कहना है कि पानी का संकट होने की वजह से हम लोग गांव में शादी समारोह आयोजित नहीं कर पा रहे हैं. इसके लिए हमको दिल्ली जाना पड़ता है. पर्याप्त पानी नहीं मिलने से पशुओं की हालत भी खराब हो गई है. कलेक्टर, ईई व सीईओ को भी पीने के पानी की समस्या को लेकर अवगत करा दिया है,लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ है.  

 

छत्तरपुर के पब्लिक हेल्थ एंड इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के अधिकारी अजाज खान का कहना है कि गांव में पानी की समस्या का समाधान किया जा रहा है. हमने ड्रिल से गहरा बोर कर जमीन के 600 मीटर नीचे पानी पाया है. उम्मीद है कि कल तक वहां पर एक सबरसिबल पंप लगा दिया जाएगा.

वहीं हमने हाथ पंप का विकल्प भी चुना है. सीढ़ियों पर लाइन में लगना पड़ता है. इसके बाद उनको एक बाल्टी पानी नसीब होता है. इस दौरान उनकी जान को भी खतरा है. मजबूरी में लोग गंदे पानी को कपड़े से छानकर पी रहे हैं.

First published: 13 April 2018, 17:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी