Home » महाराष्ट्र न्यूज़ » BMC's action at Kangana's office told NCP chief Sharad Pawar not necessary
 

कंगना के दफ्तर पर BMC की कार्रवाई को NCP प्रमुख शरद पवार ने भी बताया गैर-जरूरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 September 2020, 15:34 IST

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना रनौत की प्रॉपर्टी पर बृहन्मुंबई नगर निगम(BMC) की तोड़फोड़ पर रोक लगा दी है. अदालत ने कंगना रनौत की याचिका पर BMC को जवाब देने को कहा है. कंगना रनौत के वकील रिज़वान सिद्दीकी ने कहा '' जो 'स्टाप वर्क' नोटिस दिया था वो बेबुनियाद है और अवैध है, स्टाप वर्क उनको देना पड़ता है जिनके घर में काम चालू हो. वो अवैध तरीके से घर में घुसे, आस पड़ोस में सबको धमकी देकर घुस गए. नोटिस का जवाब मैंने कल ही दे दिया था.

 


उन्होंने कहा ''सुबह उन्होंने हमारा जवाब अस्वीकार किया और अस्वीकार करने से पहले ही तोड़ने के लिए वहां लोग मौजूद थे. हमारे पास बहुत कानूनी विकल्प हैं, उन्होंने संपत्ति को बहुत नुकसान पहुंचाया. हमें जो करना है करेंगे, हम लोग शिकस्त नहीं मानेंगे''. अदालत ने बीएमसी से यह जानने की कोशिश की कि उसने परिसर में प्रवेश कैसे किया और याचिका के जवाब में एक हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया है.

कोर्ट ने मामले पर गुरुवार को सुनवाई करेगा. एनसीपी के प्रमुख शरद पवार ने भी कंगना के दफ्तर पर बीएमसी के इस फैसले पर सवाल उठाया है. पवार ने इसे बेहद गैर-जरूरी ऐक्शन करार दिया है. पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को कहा कि बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के बयानों को अनुचित महत्व दिया जा रहा है.

पवार ने कहा "ऐसे वक्तव्यों को ज्यादा महत्व देने की जरूरत नहीं. ऐसे वक्तव्यों से जनमानस की आम जिंदगी पर कोई फर्क नहीं पड़ता. लोग ऐसी चीजों पर ध्यान नहीं देते. इन्हें बड़ी गंभीरता से लेने की बिल्कुल जरूरत नहीं. बल्कि मेरी शिकायत तो मीडिया से है कि ऐसे खबरों को वो ज्यादा तवज्जों क्यों दे रहे है."

मुंबई : कंगना के दफ्तर पर चला BMC का बुलडोजर, अभिनेत्री बोलीं- मेरे लिए यह इमारत नहीं राम मंदिर है

First published: 9 September 2020, 15:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी