Home » महाराष्ट्र न्यूज़ » Cyclone Nisarga: Red alert in Mumbai and near by area
 

कोरोना के बाद मुंबई पर निसर्ग चक्रवात की मार, 100 किलोमीटर प्रति घंटा रफ्तार से चलेंगी हवाएं

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 June 2020, 13:46 IST

Cyclone Nisarga: मुंबई अभी कोरोना की मार से उभर भी नहीं पाया है कि अब देश की आर्थिक राजधानी पर चक्रवात निसर्ग की मार पड़ना शुरु हो गई है. मौसम विभाग के मुताबिक, बुधवार को निसर्ग चक्रवात महाराष्ट्रर के तटीय इलाकों में दस्तक दे सकता है. जिसे देखते हुए मौसम विभाग ने मुंबई के साथ-साथ आसपास के इलाकों में हाई अलर्ट जारी कर दिया है. मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात की है और राज्य की तैयारियों का जायजा लिया है.

वहीं राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (NDRF) ने जानकारी दी राज्य के सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले जिलों में नौ दलों को तैनात किया गया है. जिनमें तीन दल मुंबई में, दो पालघर, एक ठाणे, एक रायगढ़, एक रत्नागिरी और एक सिंधुदुर्ग में लगाए गए हैं. निसर्ग चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ महाराष्ट्र सरकार के राहत और पुर्नवास विभाग के साथ मिलकर काम कर रहा है. एनडीआरएफ इन जिलों के स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर पहले से अपनी तैयारी में जुटी है. जिससे चक्रवात से होने वाले नुकसान को कम से कम किया जा सके और समय रहते लोगों को जरूरत का सामान और सुरक्षा पहुंचाई जा सके.


मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान को लेकर जारी किया अलर्ट, इन राज्यों में हो सकती है भारी बारिश

Hika Cyclone: अब देश के सामने आने वाला है एक नया संकट, इन राज्यों पर आएगी बड़ी आफत

एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने कहा कि निसर्ग एक भयानक चक्रवात है और 90-100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की उम्मीद है. प्रधान ने बताया कि वो अपनी टीम के साथ महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों के आस-पास से लोगों को निकालने का काम कर रहे हैं. एनडीआरएफ के मुताबिक, इस समय देश में कोरोना वायरस संकट भी चल रहा है, इसलिए हमारी कोशिश यही रहेगी कि इस संकट के दौर में बिजली की कटौती ना हो. वहीं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि मछुवारों को समुद्र से वापस आने के लिए कहा गया है, ताकि इस चक्रवात में किसी एक की भी जान ना जाए.

केरल में शुरु हुई झमाझम बारिश, यूपी में 20 जून तक दस्तक दे सकता है मानसून

इस बयान में बताया गया कि जो अस्पताल कोरोना वायरस मरीजों का इलाज नहीं कर रहे हैं, उन्हें चक्रवात से प्रभावित लोगों के लिए तैयार किया गया है. बता दें कि सोमवार को भारतीय मौसम विभाग ने चेेतावनी दी थी कि अरब सागर पर कम दवाब बन रहा है और यह अगले 36 घंटों में चक्रवात जैसा रूप ले सकता है. मौसम विभाग के मुताबिक, तीन जून की शाम तक चक्रवात निसर्ग उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटीय इलाकों में दस्तक दे सकता है.

मौसम विभाग की चेतावनी- इस बार उत्तर भारत में सामान्य से ज्यादा होगी बारिश

First published: 2 June 2020, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी