Home » महाराष्ट्र न्यूज़ » Mumbai Police Constable Rescues Ailing baby from waterlogged building after father tweets
 

पिता की फरियाद पर फरिश्ता बनकर पहुंची मुंबई पुलिस, ऐसे बचाई बच्ची की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 10:00 IST

मुंबई में हो रही भारी बारिश ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है. कई स्थानों पर पानी भर गया है. मुंबई के मानिकपुर में भी ऐसा ही कुछ हुआ. जहां एक इमारत में बारिश का पानी भर गया और 6 महीने की एक बच्ची इस इमारत में फंसी रह गई. बच्ची के पिता ने बिल्डिंग से उसे निकालने के लिए पालघर पुलिस को उसे मेडिकल सुविधाएं देने और निकालने के लिए ट्वीट किया.

शरद झा नाम के इस मीडियाकर्मी ने बुधवार सुबह करीब 11 बजे पालघर पुलिस और अन्य अथॉर्टी को ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी. इस ट्वीट में शरद ने लिखा, ‘मेरी 6 महीने की बेटी सुबह से ठीक नहीं है उसे मेडिकल सहायता की जरूरत हैं.’पालघर पुलिस कंट्रोल रूम के एक अधिकारी के मुताबिक, शरद ने बताया कि, हम सन सिटी में फंसे हुए हैं और मेरी बेटी सुबह उल्टियों की वजह से गंभीर है.

उन्होंने बताया कि सूचना मिलने के बाद कंट्रोल रूम ने मानिकपुर पुलिस स्टेशन को इस बारे में जानकारी दी. जहां कांस्टेबल संतोष गीते को इस मामले की जानकारी दी गई. लेकिन लगातार हो रही बारिश और खराब मौसम की वजह से गीते सूचना मिलने के कुछ घंटे बार मौके पर पहुंच गए. गीते के मुताबिक जब वो इमारत के पास पहुंचे तो वहां प्रवेश द्वार पर बहुत पानी भरा हुआ था. लेकिन किसी तरह वो इमारत की तीसरी मंजिल तक पहुंचने में कामयाब रहे.

कांस्टेबल गीते ने बताया कि झा परिवार ने मुझे बच्ची को एक कंबल में लपेट कर दिया. गीते ने कहा, “जब उन्होंने मुझे बच्ची को दिया तो मैं उसे अपना ही बच्चा समझकर काम कर रहा था. उसके बाद 6 महीने की चेतना झा को पुलिस की गाड़ी से पास के ही एक प्राइवेट अस्पताल तक पहुंचाया गया.”

पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक चेतना को कुछ घंटे तक अस्पताल में भर्ती रखा गया. 27 साल के कांस्टेबल गीते ने बच्ची की जान बचाकर अपना काम समय से किया. बता दें कि मुंबई में पिछले कई दिनों से हो रही भारी बारिश की वजह से की स्थानों पर पानी बर गया है. कांस्टेबल गीते ऐसे हालातों में लोगों को हर हालत में सुरक्षा प्रदान करने का काम करते हैं.

ये भी पढ़ें- पत्रकारों के सवाल पर बोले भागवत- मैं बोला तो चली जाएगी मेरी नौकरी

First published: 12 July 2018, 10:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी