Home » अन्य खेल » Former India hockey captain Balbir Singh Sr. dies aged 95 PM Modi Tweet
 

टीम इंडिया को ओलंपिक में तीन बार गोल्ड मेडल दिलवाने वाले खिलाड़ी का हुआ निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2020, 15:23 IST
Balbir Singh

भारतीय हॉकी के सबसे महान खिलाड़ियों में से एक बलबीर सिंह सीनियर का सोमवार को चंडीगढ़ में 95 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. बलबीर सिंह सीनियर को 8 मई को मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जब उन्हें 104 डिग्री बुखार था. 10 मई को, उनके कोरोना वायरस टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई थी, लेकिन वो गंभीर स्थिति में थे क्योंकि वो ब्रोन्कियल निमोनिया से जूझ रहे थे और अस्पताल में भर्ती होने के अगले सप्ताह उन्हें कार्डियक अरेस्ट आया था और उनकी स्थिति काफी गंभीर बनी हुई थी. बता दें, पिछले साल जनवरी में बलबीर ब्रोन्कियल न्यूमोनी से बिमार होने केब बाद अस्पताल में भर्ती हुए थे जहां उन्होंने 108 दिन बिताए और उसके बाद वो अपने घर गए थे.

सेंटर फ़ॉरवर्ड के रूप में खेलने वाले बलबीर सिंह का करियर ध्यानचंद के दिनों में जब भारत का हॉकी में वर्चस्व था, उस दौरान रहा. बलबीर सिंह 1948 (लंदन), 1952 (हेलसिंकी) और 1956 (मेलबर्न) ओलंपिक में स्वर्ण जीतने वाली भारतीय टीम के प्रमुख सदस्य थे. साल 1948 में बलबीर ने अर्जेंटीना के खिलाफ हैट्रिक लगाई थी इस मैच में भारत ने 9-1 से जीत दर्ज की थी जबकि ब्रिटेन के खिलाफ फाइनल मुकाबले में उन्होंने दो गोल किए थे, भारत ने 2-0 से वह मैच जीता था. इसके चार साल बाद उन्होंने हेलसिंकी ओलिंपिक में नेदरलैंड्स के खिलाफ गोल्ड मेडल के लिए मैच में पांच गोल दागे थे और यह रिकॉर्ड आज तक उनके नाम है. बलबीर वह 1975 विश्व कप विजेता भारतीय हॉकी टीम के मैनेजर भी रहे थे.


 

बलबीर सिंह सीनियर ने निधन पर पीएम मोदी ने भी ट्वीट किया. पीएम ने ट्वीट करते हुए लिखा,"पद्म श्री बलबीर सिंह सीनियर जी को हमेशा उनके शानदार प्रदर्शन के लिए जाना जाएगा. उन्होंने भारत (India) का गौरव बढ़ाया. बेशक वह शानदार खिलाड़ी थे और साथ ही एक बड़े मार्गदर्शक भी थे. उनके जाने से दर्द हो रहा है. उनके परिवार को भगवान हिम्मत दें.

वहीं भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने लिखा,"बलबीर सिंह के जाने पर दुख हो रहा है. मेरी प्राथनाएं इस दुख के समय में उनके परिवार के साथ हैं." 

बलबीर सिंह सीनियर को हॉकी में उनके योगदान के लिए 1957 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था. बलबीर सिंह सीनियर भारत के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए.

बलबीर आजादी के बाद से तीन ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाले चार भारतीयों में से एक थे, टीम के साथी लेस्ली क्लॉडियस, रणधीर सिंह जेंटल और रागनाथन फ्रांसिस के साथ. क्लॉडियस, जिनकी 2012 में मृत्यु हो गई, ने भी 1960 के खेलों में भारत को रजत दिलाया, जिससे वह बलबीर को तीन पदकों से पार पाने वाले एकमात्र एथलीट बन गए.

IPL 2020 को लेकर किरण रिजिजू ने दिया बड़ा बयान, बीसीसीआई की कोशिशों को लग सकता है झटका

First published: 25 May 2020, 15:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी