Home » अन्य खेल » Sunil Chhetri's Magical performance indian football team beat kenya by 2-0 and wins Intercontinental Cup
 

करिश्माई कप्तान ने दिलाया भारत को इंटरकोंटिनेंटल कप, सुनील छेत्री ने बना दिया अनूठा रिकॉर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 8:23 IST
( indian football)

इंडियन फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री की करिश्माई कप्तानी और उनके दो शानदार गोलों की बदौलत भारतीय फुटबाल टीम ने हीरो इंटरकोंटिनेंटल कप अपने नाम कर लिया. रविवार को खेले गए इंटरकोंटिनेंटल कप के फाइनल मुकाबले में भारत ने केन्या को 2-0 से हराकर खिताब अपने नाम कर लिया और एक बार फिर दिखा दिया कि वो भी किसी से कम नहीं हैं.

इंटरकोंटिनेंटल कप के फाइनल मुकाबले में दो शानदार गोल दागने के साथ ही भारतीय कप्तान सुनील छेत्री ने अंतरराष्ट्रीय फुटबाल में अपने देश के लिए सर्वाधिक गोल करने के मामले में अर्जेटीना के महान खिलाड़ी लियोनल मेसी की बराबरी कर ली. बता दें कि मेसी और सुनील छेत्री ने अपने देश के लिए 64-64 गोल किए हैं. हालांकि छेत्री ने मेसी के मुकाबले कम ही मैच खेले हैं.

मुंबई एरीना में खेले गए इंटरकोंटिनेंटल कप के फाइनल मुकाबले में भारत की शुरुआत शानदार रही. यही कारण रहा कि मेजबान टीम ने पहले मिनट से ही केन्या पर अपना दबदबा बनाने का प्रयास जारी रखा. मैच के आठवें मिनट में अनिरुद्ध थापा ने बॉक्स के दाएं छोर से फ्री-किक पर चतुराई भरा पास दिया, जिसे सुनील छेत्री ने गोल में बदल दिया और भारत को 1-0 की बढ़त दिला दी.

एक गोल से पिछड़ने के बाद मेहमान टीम ने मिडफील्ड में भारतीय टीम पर दबाव बनाने की कोशिश की, लेकिन भारतीय मिडफील्ड और डिफेंस ने अपना संयम नहीं खोया और केन्या को गोल करने का एक भी मौका नहीं दिया. भारतीय डिफेंस की जान संदेश झिंगन ने 29वें मिनट में भारतीय कप्तान को एक लंबा पास दिया, जिसे एक बार फिर गोल में डालकर छेत्री ने भारत की बढ़त को दोगुना कर दिया.

 

दूसरे हाफ में केन्या ने अपना स्वाभाविक खेल दिखाया और अपनी शरीरिक शक्ति का प्रदर्शन किया. केन्या को अपना स्वाभाविक खेल खेलने का लाभ भी मिला और 77वें मिनट में मेहमान टीम को फ्री-किक मिली, लेकिन गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू ने भारत की बढ़त को कम नहीं होने दिया.

ये भी पढ़ेंः काम धंधे से ले लेना छुट्टी, 16 जून को भारत और पाकिस्तान के बीच होगा महामुकाबला

केन्या ने बढ़त को कम करने के लिए कई लंबे पास दिए, लेकिन वे गोल करने में कामयाब नहीं हो पाए. छेत्री ने पूरे टूर्नामेंट में बेहतरीन प्रदर्शन किया. उन्होंने कुल आठ गोल किए और भारत को खिताब तक पहुंचाया. भारत की डिफेंस ने भी चार देशों की इस प्रतियोगिता में दमदार प्रदर्शन किया और चार मैचों में केवल एक गोल खाया.

(IANS के इनपुट के साथ)

First published: 11 June 2018, 8:23 IST
 
अगली कहानी