Home » राजनीति » 2019 Lok Sabha elections: Congress set to promise revamped GST in manifesto
 

मोदी के GST को खत्म करने का वादा 2019 के अपने चुनावी मेनिफेस्टो में करने जा रहे हैं राहुल गांधी !

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 December 2018, 16:09 IST

मोदी सरकार द्वारा  लागू किये गए जीएसटी पर कांग्रेस के कई दिग्गज नेता सवाल उठाते रहे हैं. कांग्रेस पार्टी का कहना रहा है कि ये वह जीएसटी नहीं है जिसका सपना यूपीए सरकार ने देखा था. यही कारण है कि कांग्रेस पार्टी 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए अपने घोषणापत्र में एक संशोधित जीएसटी का वादा करने के लिए तैयार है. पार्टी नेताओं का कहना है कि 2019 में केंद्र में अगर कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार आती है तो वह जीएसटी के वर्तमान डिजाइन को बदल देगी.

पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने नई दिल्ली में पार्टी के मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा “जीएसटी के वर्तमान डिजाइन में दोष हैं, और इस हद तक त्रुटिपूर्ण है कि मात्र छेड़छाड़ इसका समाधान नहीं है. 2019 में केंद्र की कांग्रेस सरकार जीएसटी की अगली पीढ़ी लाएगी.”

एक ताजा बयान में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सवाल उठाया कि जीएसटी शासन के घोषित लक्ष्यों में बदलाव का कारण क्या था, इसे बार -बार क्यों बदला जा रहा था. उन्होंने कहा "कल तक जीएसटी की सिंगल दर एक मूर्खतापूर्ण विचार था. अब यह सरकार का घोषित लक्ष्य है. कल तक जीएसटी की अधिकतम सीमा को 18 प्रतिशत तक बांधना अव्यावहारिक था. मगर, कल से कांग्रेस पार्टी की मुख्य मांग यानि 18 प्रतिशत कर सीमा सरकार का घोषित लक्ष्य है."

उन्होंने कहा "कल तक, मुख्य आर्थिक सलाहकार की आरएनआर रिपोर्ट 15 प्रतिशत मानक दर को ठीक करने के लिए डस्टबिन में थी. कल इसे पुनः प्राप्त किया गया और एफएम की मेज पर रखा गया और तुरंत स्वीकार कर लिया गया.

कांग्रेस पार्टी की मेनिफेस्टो ड्राफ्टिंग समिति के सूत्रों ने कहा कि 2019 के चुनावों के लिए एक सिंगल टैक्स रेट के साथ जीएसटी को फिर से लागू करना आसान होगा, साथ ही कृषि संकट को कम करने और युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने के तरीके सुझाएगा. पंजाब के वित्त मंत्री ने कहा कि वर्तमान जीएसटी में एक हजार से अधिक बदलाव हुए हैं. हालांकि बादल ने इस अटकल को खारिज कर दिया कि कांग्रेस ने जीएसटी को पूरी तरह से खत्म करने का समर्थन किया.

उन्होंने कहा “खेती अब बैलों की मदद से संभव नहीं है. खेत की जुताई के लिए एक ट्रैक्टर आवश्यक है, और इसलिए जीएसटी आवश्यक है. चुनाव प्रचार के दौरान कुछ सस्ते प्रचार के लिए कांग्रेस पार्टी जीएसटी का त्याग नहीं करेगी, जो हमने तैयार किया था.हम 2019 के चुनावों में जीत के लिए जीएसटी का त्याग नहीं करेंगे.''

बादल ने कहा कि कांग्रेस पेट्रोल और बिजली को भी जीएसटी के दायरे में लाना चाहती है. उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गलत सूचना फैला रही है कि कांग्रेस के वित्त मंत्रियों ने करों को कम करने के कदम का विरोध किया.

ये भी पढ़ें : Flashback 2018 : मोदी सरकार के लिए वरदान बनकर आया ये कानून, वापस आये कर्जदारों से 80,000 करोड़

First published: 26 December 2018, 16:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी